खुफिया रिपोर्ट: विदेशी आते हैं घूमने, करते हैं धर्मप्रचार...

On Date : 12 August, 2017, 12:45 PM
0 Comments
Share |

पवन वर्मा, भोपाल
मध्य प्रदेश में टूरिस्ट वीजा पर आने वाले हर व्यक्ति पर अब पुलिस की पैनी नजर होगी। दरअसल इस साल अब तक 23 विदेशी लोग ऐसे सामने आए हैं, जो टूरिस्ट वीजा के बहाने देश में आए और मध्य प्रदेश में वे अपने धर्म और विचारधारा का चोरी छुपे प्रचार-प्रसार कर रहे थे। पुलिस ने इनमें से 13 विदेशियों  को ब्लैक लिस्ट कर दिया है। इस वर्ष अब तक इंडोनेशिया और बांग्लादेश के 23 ऐसे लोग पुलिस की पकड़ में आए जो टूरिस्ट वीजा के नाम पर अलग ही काम भारत में करने के लिए आए थे। इस लोगों को दो प्रदेश के दो जिलों में पकड़ा गया था। इसके बाद भी पुलिस मुख्यालय की खुफिया शाखा को टूरिस्ट वीजा के नाम पर  धार्मिक और अपनी विचारधारा का प्रचार कर रहे हैं। इस सूचना और 23 विदेशियों के सामने आने के बाद पुलिस मुख्यालय ने हाल ही में एक आदेश जारी किया है। जिसमें उसने हर पुलिस अधीक्षक को यह निर्देश दिए हैं कि वे नजर रखे कि टूरिस्ट वीजा पर आने वाले विदेशी कहीं धार्मिक प्रचार-प्रसार तो नहीं कर रहे हैं। यदि ऐसा पाया जाता है तो तत्काल उसकी जानकारी पुलिस मुख्यायल और विदेश मंत्रालय को दी जाए। खुफिया तंत्र को भी यह जानकारी लगातार मिल रही है कि टूरिस्ट वीजा पर आने वाले लोग उसका उल्लघंन कर रहे हैं।
SP होते हैं FRO
हर जिले का एसपी फॉरेन रजिस्ट्रेशन आॅफिसर भी होता है। इस नाते एसपी को यह पता होता है कि उनके जिले में टूरिस्ट वीजा पर कौन-कौन किस देश से आ रहा है। आईवीएफआरटी सोफ्टवेयर के जरिए एसपी विदेश मंत्रालय से सीधे जुड़े होते हैं। यदि कोई विदेशी टूरिस्ट वीजा पर भारत आकर दूसरी गतिविधियां करता हैं तो संबंधित एसपी को तत्काल इस पर जानकारी देना होती है।
केस-1 : इंडोनेशिया के 13 लोग भारत घूमने के लिए टूरिस्ट वीजा लेकर मध्य प्रदेश के रीवा जिले में पहुंचे थे। एक ही समुदाय के ये लोग यहां पर चोरी छुपे अपने धर्म और विचाराधारा का प्रचार करने लगे। पुलिस को इनकी सूचना मिली, तब तक ये लोग कई लोगों से मिलकर अपने काम को अंजाम दे चुके थे। रीवा पुलिस ने इस साल जनवरी में इन 13 लोगों की पहचान कर ली थी। इसके बाद यहां के तत्कालीन एसपी संजय कुमार ने इनके खिलाफ लीव इंडिया नोटिस जारी कर दिया था। जिसके चलते इन 13 विदेशियों को  48 घंटे में देश छोड़ना पड़ा था।
केस-2 : छिंदवाड़ा में मार्च में दस बांग्लादेशी मिले थे। जो यहां आकर धार्मिक प्रचार-प्रसार में जुट गए थे। छिंदवाड़ा पुलिस को इसकी सूचना मिली। उन्होंने इन लोगों को  हिरासत में लिया था। इसके बाद इनसे लम्बी पूछताछ हुई। पुलिस ने पूछताछ में इस बात का खुलासा हुआ था कि ये लोग भी धार्मिक प्रचार-प्रसार करने के लिए ही छिंदवाड़ा आए हुए थे। इसके बाद  पुलिस ही इनको बॉर्डर तक छोड़कर आई थी।

टूरिस्ट वीजा पर आने वाले धार्मिक प्रचार-प्रसार तो नहीं कर रहे हैं, इस पर सभी पुलिस अधीक्षकों को नजर रखने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही कई दिशा-निर्देश भी इस संबंध में जारी किए गए हैं।
मकरंद देउस्कर, आईजी इंटेलीजेंस

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार