नियम ताक पर रखकर मंत्री मलैया के रिश्तेदार को एडवर्ड विला का ठेका

On Date : 13 January, 2018, 1:08 PM
0 Comments
Share |

भोपाल, ब्यूरो। मुंबई में प्रोविडेंट इन्वेस्टमेंट कंपनी की कफ परेड स्थित एडवर्ड विला बिल्डिंग को रिनोवेशन के मामले में वित्त मंत्री जयंत मलैया उलझ सकते हैं। पीआई कम्पनी के चेयरमैन वित्त मंत्री होते हैं और ऐसे में उनकी रिश्तेदार अलका जैन की मोगरा मेसर्स को नियमों को ताक पर रख कर बिल्डिंग के रेनोवेशन का काम सौंपा गया। इस मामले की सीबीआई जांच शुरू होने के बाद प्रदेश के फायनेंस अफसरों ने जब कंपनी के दो साल के एकाउंट का आॅडिट किया तो यह बात सामने आई है।  गड़बड़ी पकड़े जाने के बाद कंपनी के जीएम सेक्रेटरी सतीश दुबे ने बोरिकर के खिलाफ कफ परेड थाना मुंबई में एफआईआर दर्ज कराई गई। इसके बाद मैनेजर को टर्मिनेट कर दिया गया। पीआई कम्पनी के मैनेजर अतुल वी बोरिकर ने आॅडिट के दौरान एडवर्ड विला के रिनोवेशन ठेके में गड़बड़ी सामने आने पर फायनेंस के अफसरों की पूछताछ में यह खुलासा किया। सूत्र बताते हैं कि इस मामले में मंत्री का नाम आते ही वित्त अफसरों ने केस दबा दिया, लेकिन आॅडिट रिपोर्ट के 18 बिन्दूओं में मोगरा मेसर्स से नियमविरुद्ध डेढ़ करोड़ के रिनोवेशन कराने की बात दर्ज की गई। यह बात भी उजागर हुई कि कंपनी के मैनेजरबोरिकर ने सरकार के मंत्री-अफसरों सहित अन्य रसूखदारों को जमकर उपकृत किया है। फायनेंस की जांच में यह भी पता चला कि मैनेजर बोरीकर ने वकीलों को सरकारी जमीनों का केस लड़ने के लिए 1 करोड़ रुपए से अधिक का नकद भुगतान किया है। इतना ही नहीं मुंबई में फायनेंस मिनिस्टर की सुविधा के लिए भोपाल से भेजी गई मप्र सरकार की कार को बोरिकर ने अपने नाम रजिस्टर्ड करा लिया। पीआई कंपनी ने गेस्ट हाउस सहित फाईव स्टार होटल में ठहरने पर लाखों रुपए खर्च किए हैं।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार