पुष्य नक्षत्र: फेस्टिव मूड में बाजार, खरीदारी बढ़ी

On Date : 13 October, 2017, 12:43 PM
0 Comments
Share |

भोपाल। दीपावली के ठीक पहले पुष्य नक्षत्र का 23 घंटे का महामुहूर्त आने के साथ ही बाजार फेस्टिव मूड में आ गया है। आज और कल दो दिन धनतेरस जैसी शुभता से भरे होंगे। इन दोनों दिन पुष्य नक्षत्र व सर्वार्थ सिद्धि योग का महासंयोग रहेगा। धनतेरस से पहले खरीदारी के लिए मिले ये दो अतिरिक्त दिन को व्यापारी व पंडित दीपावली गिफ्ट की तरह मान रहे हैं। लोगों ने इनका फायदा उठाने की तैयारी कर ली है। आज पहले दिन शुक्र पुष्य नक्षत्र में लोग लग्जरी आइटम ज्वैलरी, सौंदर्य प्रसाधन व वाहन आदि के लिए बाजारों का रुख कर रहे हैं, जबकि दूसरे दिन शनि पुष्य योग में भूमि व भवन से जुड़ा कारोबार कर रहे हैं।  पुष्य नक्षत्र वाले ये दो दिन इसलिए खास है, क्योंकि शुक्र लग्जरी वस्तुओं का अधिपति ग्रह है, जबकि पुष्य नक्षत्र का स्वामी स्वयं शनि है। पुष्य नक्षत्र योग में होने वाली भारी-खरीद-फरोख्त को ध्यान में रखते हुए व्यापारियों ने भी दुकानों को नए स्टाक से भर लिया है। आज पुष्य नक्षत्र सुबह 10.47 से शुरू होकर शनिवार सुबह 9.29 बजे तक रहेगा।
 इसके अलावा सर्वार्थ सिद्धि योग सुबह 10.54 से देर रात तक रहेगा। इस दिन की शुभता में वृद्धि की वजह बुध व सूर्य का एक साथ कन्या राशि में होना है, जिससे बुधादित्य योग बनेगा, जो शुभ कार्य व खरीदी-फरोख्त के लिए लाभकारी है। पुष्य नक्षत्र के शुभकाल में खरीद-फरोख्त शुभ मानी जाती है। इस दिन कुम्भ लग्न में देवगुरु बृहस्पति नवम भाव धर्म-भाग्य स्थान पर रहेंगे। इस दिन स्वर्ण आभूषण, बर्तन व पूजन सामग्री व धर्म ग्रंथ खरीदना मंगलकारी रहेगा।
पुष्य नक्षत्र योग में खरीद-फरोख्त के लिए शहर के सभी बाजारों में रौनक बढ़ गई है। सजावट के साथ ही ग्राहकों को बेहतर सुविधाएं देने के भी व्यापारियों ने इंतजाम किए हैं। चौक, लखेरापुरा, दस नंबर, अरेरा कॉलोनी व न्यू मार्केट समेत उपनगरीय क्षेत्रों में गुरुवार को भी खरीदारी के लिए खासी भीड़ दिखाई दी। शुक्रवार को पुष्य योग में आॅटो मोबाइल, रेडीमेड कपड़े, ज्वेलरी, सिल्वर के लक्ष्मी-गणेश वाले सिक्के व इलेक्ट्रॉनिक्स वस्तुओं की जमकर खरीदारी होने का अनुमान है।
नक्षत्रों में श्रेष्ठ है पुष्य
मां चामुण्डा दरबार के पुजारी गुरू पंडित रामजीवन दुबे एवं ज्योतिषाचार्य विनोद रावत ने बताया कि  नक्षत्रों में श्रेष्ठ पुष्य माना गया हैं। भगवान राम का जन्म नक्षत्र है। साढ़े साती-तुला, वृश्चिक एवं धनु पर है। मेष और सिंह पर ढैय्या शनि चल रही है वो भी इस दिन शनिदेव की पूजा करने से लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
आज  का शुभ समय
दोपहर 12.00 से 1.30 तक शुभ, शाम 4.30 से 6.00 तक चर, रात्रि 9 से 10.30 तक लाभ रहेगा।  स्थिर लगन : कुंभ दिन में 2.55 से 4.28 तक, रात्रि में वृषभ लगन 7.39 से 9.38 तक रहेगी।
14 अक्टूबर का शुभ समय
स्थिर लगन वृश्चिक पुष्य नक्षत्र के साथ सुबह 8.43 से 9.40 तक शुभ समय सुबह 7.30 से 9.00 तक शुभ का चौघड़िया रहेगा। क्रय-विक्रय, मांगलिक कार्य करना शुभ रहेगा।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार