40 करोड़ डकार गए फर्जी रसीदों से घेरे में असिस्टेंट कमिश्नर संजीव दुबे

On Date : 12 August, 2017, 12:42 PM
0 Comments
Share |

इंदौर/भोपाल, ब्यूरो। शराब ठेके से सरकार को होने वाली आमदनी में इंदौर में पदस्थ आबकारी अफसरों की मिलीभगत से लगभग 40 करोड़ रुपए की चपत लगी है। इस मामले में आबकारी विभाग के इंदौर के असिस्टेंट कमिश्नर संजीव दुबे और उनके स्टाफ की भूमिका सवालों के घेरे में है और विभाग ने इनके विरुद्ध जांच कराते हुए पुलिस को मामला सौंप दिया है। पुलिस ने इस मामले में 12 शराब ठेकेदारों समेत 14 लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज की है।
नियमानुसार शराब का ठेका पाने वालों द्वारा चालान के माध्यम से शासन के खाते में राशि समय समय पर जमा कराई जाती है। इंदौर में 12 शराब ठेकेदारों द्वारा जमा कराई गई चालान की राशि और विभाग को दी गई चालान की रसीद में करीब 40 करोड़ का फर्जीवाड़ा सामने आया है। इस फर्जीवाड़े में डेढ़ साल से विभाग के सहायक आयुक्त आबकारी संजीव दुबे और उनके मातहत के शामिल होने की आशंका है, जिसकी जांच हो रही है और उन पर ऐक्शन की तैयारी विभाग ने कर ली है। ये अधिकारी पुलिस को जमा किए चालान की रसीद नहीं दे पा रहे हैं।
इस तरह करते थे गड़बड़ी
सूत्रों के अनुसार इंदौर के 12 ठेकेदारों द्वारा राजू जसवंत और अंश त्रिवेदी नाम के दो व्यक्तियों से चालान की राशि बैंकों में जमा कराई जाती थी। ये ठेकेदारों के लिए काम करते हैं। इनके द्वारा बैंक में राशि जमा कराने के बाद रसीद ट्रेजरी को दी जाती थी। साथ ही एक रसीद आबकारी विभाग को दी जाती थी और जमा राशि के अंक बदल कर अमाउंट बढ़ा दिया जाता था। नियमानुसार जो राशि जमा होती थी, उसका ट्रेजरी से वेरीफिकेशन किया जाना चाहिए पर विभाग के अफसर ऐसा नहीं करते थे। इसके चलते पहले साल इन दोनों ने एक करोड़ की गड़बड़ी की और दूसरे साल यह आंकड़ा लगभग 40 करोड़ को पार कर गया।
ठेकेदारों पर ऋकफ, अफसरों को सिर्फ नोटिस
जिन शराब ठेकेदारों पर आरोप है, उनमें एमडी रोड समूह के अविनाश सिंह मंडलोई, एमडी रोड के विजय श्रीवास्तव, जीपीओ चौराहा के राकेश जायसवाल, तोपखाना समूह के योगेंद्र जायसवाल, देवगुराड़िया बायपास के राहुल चौकसे, गवली पलासिया एवं डायरेक्टर मिलेनियम ट्रेडर्स सूर्यप्रकाश अरोरा, Þडायरेक्टर मेसर्स भारतीय देव बिल्ड प्राइवेट लिमिटेड स्टेशन रोड महू के गोपाल शिवहरे शामिल हैं। इनके अलावा कांकरिया समूह के लवकुश पांडे, ड्रीमलैंड चौराहा के प्रदीप जायसवाल, चोरल समूह के जितेन्द्र शिवरामे, गवली पलासिया के असप्रीत सिंह लुबाना, सांवरे ग्रुप के दीपक जायसवाल, बिड़ला कालोनी सेलिब्रेशन माल उदयपुर के राजू जसवंत व अंश त्रिवेदी के नाम भी फर्जीवाड़ा करने वालों में शामिल बताए जा रहे हैं। फिलहाल किसी अफसर पर एफआईआर नहीं की गई है, बल्कि नोटिस जारी किया गया है।
घपला हुआ पर मैं दोषी नहीं...
शराब ठेकेदारों द्वारा की गई गड़बड़ी के मामले में कलेक्टर से चर्चा कर एफआईआर कराई है। विभाग के 6 कर्मचारियों को प्रारंभिक तौर पर दोषी मानते हुए कलेक्टर की ओर से नोटिस दिलाया गया है। ग्वालियर से आबकारी अफसरों की टीम जांच के लिए आई है, जो गड़बड़ी की राशि की गणना कर रही है। मेरा कोई दोष नहीं है।
ॅ संजीव दुबे
सहायक आयुक्त आबकारी
संजीव दुबे की भूमिका संदिग्ध
इंदौर में चालान से शराब ठेकेदारों द्वारा पैसे जमा करने के मामले में 35 करोड़ की गड़बड़ी उजागर हुई है। इस मामले में एफआईआर कराई गई है। जांच के बाद एमाउंट और बढ़ सकता है। विभाग के असिस्टेंट कमिश्नर समेत अन्य अफसरों की भूमिका संदेहास्पद है, जिसकी जांच करा रहे हैं।
ॅ अरुण कोचर,
आयुक्त, आबकारी विभाग

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

मसाला ख़बरें

एक्ट्रैस ने फेमस मैगजीन के लिए कराया हॉट फोटोशूट

मुंबई: बॉलीवुड एक्ट्रैस एवलिन शर्मा ने हाल ही में एक मशहूर मैगजीन के लिए फोटोशूट करवाया है। एवलिन ने...

मंदिरा बेदी ने वीकएंड पर पोस्ट की हॉट तस्वीर, इंस्टा पर मची खलबली

मुंबई: बॉलीवुड एक्ट्रैस मंदिरा बेदी सिनेमा और स्पोर्ट्स तक अपनी पुख्ता पहचान रखती है। हाल ही में मंदिरा...

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार