सावधान! दिग्गी-अजय फैला सकते हैं दंगे - झा

On Date : 23 August, 2013, 3:35 PM
0 Comments
Share |

ग्वालियर/भोपाल, ब्यूरो
‘मैं प्रदेश की जनता को आगाह करना चाहता हूं कि वे सावधान और सतर्क रहें। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा की लोकप्रियता से घबराकर कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह प्रदेश में कहीं भी सांप्रदायिक दंगे भड़का सकते हैं और आरोप हमेशा की तरह भाजपा के सिर मढ़ सकते हैं।’ यह बात यहां संवाददाताओं से बातचीत में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं राज्यसभा सदस्य प्रभात झा ने कही है। इंदौर में पिछले दिनों दिग्विजय सिंह द्वारा लगाए गए इसी तरह के आरोपों के जवाब में झा ने कहा कि दिग्विजय सिंह कांग्रेस को जिताने में असमर्थ हैं। वे और अजय सिंह भाजपा की बढ़त व लोकप्रियता को देखकर कंपकंपा गए हैं। ऐसे में इस बात की प्रबल संभावना है कि वे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्षत: कहीं भी सांप्रदायिक दंगा करा सकते हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता सरकार दोनों को सतर्क रहने की जरूरत है, क्योंकि कांग्रेस हमेशा से यह प्रचारित करती रही है कि सांप्रदायिकता के माने भाजपा है। झा ने कहा कि दिग्विजय सिंह की झोली में निराधार व तथ्यहीन आरोपों के सिवा कुछ बचा नहीं है। दस वर्षों में वे प्रदेश के 50 जिलों में भी अपने कार्यकर्ताओं से नहीं मिले हैं। ऐसे नेता काफी हाउस में बैठकर कांग्रेस तो चला सकते हैं पर सरकार नहीं। एक सवाल के जवाब में झा ने फिर दोहराया कि केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया गुना-ग्वालियर के बीच शटल चलाते हैं। वे इससे बाहर निकलकर चुनाव लड़ें। मैं खुद उनके खिलाफ लड़ने को तैयार हूं। उन्होंने कांग्रेस के नेताओं के नेतृत्व पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि कमलनाथ राजनीतिक उद्योगपति हैं, जो अपने बाजू में बैतूल व सिवनी में भी कांग्रेस को नहीं जिता पाते।

मैं प्रभात झा पर कोई बात करना नहीं चाहता। वे बेहद हल्की सोच वाले शख्स हैं। जिसकी जैसी सोच होती है वह वैसी ही बात करता है। दंगे करने वाले वो, कराने वाले वो और ऊंगली दूसरी पर उठाते हैं। वैसे भी सांप्रदायिकता फैलाना कभी भी कांग्रेस की संस्कृति नहीं रही। भाजपा सांप्रदायिकता फैलाती है और अपना किया छिपाने आरोप दूसरों पर मढ़ती है। अजय सिंह, नेता प्रतिपक्ष मप्र विधानसभा

शिवराज जननायक बने
झा ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की जनआशीर्वाद यात्रा को प्रदेश में जित तरह का रिस्पॉन्स मिला है उसे देखकर मैं दावे से कह सकता हूं कि शिवराजजी एक जननायक के रूप में उभरे हैं। उनकी यात्रा में आंध्र के नेता एनटी रामाराव व आडवाणी की यात्रा से भी अधिक भीड़ उमड़ रही है। उनके स्वागत में आधी रात के बाद सड़कों पर जमा लोगों का हुजूम इस बात का संकेत है कि वे जननायक बन चुके हैं।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार