DPO-DWE को फेक जानकारी देने पर DM द्विवेदी की फटकार

On Date : 03 August, 2017, 10:22 PM
0 Comments
Share |

जब कुछ नहीं पता तो, जाओ और पूरी जानकारी लेकर आओ, मेडिकल आॅफिसर का काटा वेतन
प्रदेश टुडे संवाददाता, हरदा
जब आपको यह नहीं मालूम की आपके विभाग के बारे में अखबार क्या लिख रहा है। विभाग में चल रही गतिविधियों का पता नहीं है, समीक्षा बैठक में आप सही जानकारी नहीं दे पा रहे हो, तो फिर अभी जाओ ... और पूरी जानकारी के साथ पुन: आओ फिर आपकी समीक्षा होगी। यह फटकार कलेक्टर अनय द्विवेदी ने गुरुवार महिला एवं बाल विकास विभाग के नवागत कार्यक्रम अधिकारी ललीत ढेरिया और अभी तक प्रभार में रहे सशक्तिकरण अधिकारी राहुल दुबे को लगाई। कलेक्टर की नाराजगी इस बात को लेकर भी थी कि अधिकारीयों द्वारा फोल्डर में दी गई जानकारी, और जबाबों में एक रूपता नहीं थी।  
 
जिले में गर्भवती महिलाओं की संख्या बताई शून्य 
इंजीनियर होने के नाते डेटा डीकोडिंग में माहिर कलेक्टर ने अधिकारियों द्वारा दी गई उन फेक जानकारियों को भी भांप लिया जो फोल्डर में दी गई थी। अधिकारियों द्वारा यह बताया गया था कि हरदा, शहरी एवं ग्रामीण परियोजना में गर्भवती महिलाओं की संख्या शून्य है। कलेक्टर के सवालों के जबाब देने की बजाये, अधिकारी बगले झांकने लगे। विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों को जो जानकारी मौखिक होना चाहिए, वह भी नहीं दे पाए, पूर्व में दिए गए निर्देशों पर रोसटर के मुताबिक निरीक्षण और डिटेल नहीं देने के कारण अधिकारियों को कारण बताओं नोटिस थमाएं गए।
 
बैठक में नदारद ब्लॉक मेडिकल आफिसर का कटेगा वेतन
महिला बालविकास और स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त बैठक से नदारद रहे मेडिकल आॅफिसर का एक दिन का वेतन काटने के लिए कलेक्टर अनय द्विवेदी ने सीएमएचओ को निदेर्शित किया है। साथ ही यह भी हिदायत दी है कि बगैर डीएम की परमिशन के अवकाश न दिया जाए। 

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार