जिला घोषित हो सूखाग्रस्त, बिजली दर बढ़ोत्तरी पर लगे लगाम: भटनागर

On Date : 08 September, 2017, 9:37 PM
0 Comments
Share |

आम आदमी पार्र्टी ने रैली निकालकर मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन
प्रदेश टुडे संवाददाता, टीकमगढ़
आम आदमी पार्टी द्वारा शुक्रवार को जिला मुख्यालय पर रैली व आमसभा का आयोजन किया गया। रैली शहर के राजमहल चौराहे से 11 बजे प्रारंभ हुई जो नगर के प्रमुख मार्गों से होते हुए गांधी चौराहे पर पहुंची। आम आदमी पार्र्टी के प्रदेश सचिव अमित भटनागर द्वारा सभा को संबोधित किया गया। इसके उपरांत यह रैली संयुक्त कार्यालय परिसर पहुंचेगी। जहां प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम संबोधित एक 11 सूत्रीय ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में बताया गया है कि जिले में बारिश न होने के कारण किसान परेशान हैं जो आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहे हैं। तत्काल प्रभाव से जिले को सूखाग्रस्त घोषित किए जाने सहित किसानों के बिजली बिल व ऋण माफ किए जाने की मांग की। इसके साथ ही प्रदेश में लगातार बढ़ रही विद्युत दरों को कम करने और बिजली दरों में जोड़े गए अधिभार को खत्म किए जाने की मांग की गई। जिला अस्पताल में लगातार डॉक्टरों की कमी होने से यहां आने वाले मरीजों को परेशान होना पड़ रहा है। साथ ही डॉक्टरों की मनमर्जी का शिकार मरीजों को होना पड़ रहा है। मेडिकल कॉलेज खोले जाने के साथ ही कृषि आधारित उद्योग खोले जाएं। टीकमगढ़ नगर पालिका द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत जिन अपात्र लोगों को आवास आवंटित किये गए हैं। उनकी जांच की जाये एवं निर्माण कार्य में की गई धांधली और सुविधा शुल्क वसूली की जांच किए जाने सहित अन्य मांगे शामिल हैं। ज्ञापन देते समय विधानसभा प्रभारी वीरेन्द्र कुमार बड़गईया, रत्नेश पाण्डेय सहित बड़ी संख्या में आप पार्टी कार्यकर्ता मौजूद रहे। 
 
किसानों को कृषि उपज का उचित मूल्य दिलाने भावान्तर भुगतान योजना लागू
टीकमगढ़। प्रदेश के किसानों को कृषि उपज का उचित मूल्य दिलाने के लिये सरकार लारा भावान्तर भुगतान योजना लागू की जा रही है। इसके तहत अब अंतर के भुगतान की राशि सीधे किसानों के खाते में पहुंचेगी। इस योजना के तहत किसानों का 11 सितंबर से 11 अक्टूबर 2017 तक भावान्तर भुगतान योजना के पोर्टल में पंजीयन किया जाऐगा। पोर्टल पर पंजीयन के समय किसान के द्वारा स्वयं का आधार कार्ड क्रमांक/समग्र आईडी, बैंक खाता क्रमांक तथा मोबाइल नंबर दर्ज कराना अनिवार्य है।  
योजना के तहत यदि किसान द्वारा मण्डी समिति परिसर में विक्रय की गई अधिसूचित फसल की विक्रय दर न्यूनतम सर्मथन मूल्य से कम किन्तु राज्य शासन द्वारा घोषित मॉडल विक्रय दर से अधिक हुई तो न्यूनतम समर्थन मूल्य तथा किसान द्वारा विक्रय मूल्य के अंतर की राशि किसान के खाते में ट्रांसफर की जाएगी।
इस योजना में खरीफ-2017 में सोयाबीन, मूंगफली, तिल, रामतिल, मक्का, मूंग, उड़द एवं तुअर की फसलें शामिल की गई है। इन फसलों के लिए जो भी उचित मूल्य होगा उनके आधार पर भुगतान किया जाएगा। हर फसल को अलग-अलग समय तक पंजीयन कराने की योजना रहेगी। इसमें मॉडल विक्रय दर की गणना मध्यप्रदेश तथा दो अन्य राज्यों की मॉडल विक्रय दर का औसत होगा।
योजना में फसलों के मण्डी में विक्रय अवधि तुअर के लिए एक फरवरी से 30 अप्रैल 2018 तक, सोयाबीन,मूंगफली, तिल, रामतिल, मक्का, मूंग और उड़द के लिए 16 अक्टूबर से 15 दिसंबर 2017 तक निर्धारित की गई है।  

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार