सूखा नहीं अकाल की स्थिति बन गई है जिले में : रमन पस्तोर

On Date : 08 September, 2017, 9:40 PM
0 Comments
Share |

संकट की इस घड़ी में दलीय राजनीति से हटकर एक साथ कार्य करना ही होगा सच्चा राजधर्म
प्रदेश टुडे संवाददाता टीकमगढ़
म.प्र. इंटक कांग्रेस के प्रदेश महासचिव एवं जिला पंचायत सदस्य के साथ रमन पस्तोर ने कई ग्रामों का भ्रमण कर पाया है कि केवल उड़द ही 20 प्रतिशत जिन्दा बचे हुई है, बाकी फसल 100 प्रतिशत नष्ट हो गई है। उन्होंने  बताया है कि सर्वाधिक सूखा का प्रभाव चंदेरा से दिगौड़ा, मोहनगढ़ तक ऐसा देखने को मिला है कि पेयजल स्रोत सूख गए हैं, फसल पूर्णत: नष्ट हो चुकी है। पस्तोर ने कहा कि तालाबों मे 5 प्रतिशत भराव नहीं हुआ है। जानवरों को घास नहीं है। ऐसी स्थिति में लगता है कि समूचे क्षेत्र व जिले भर में अकाल जैसी स्थिति बन गई है। उन्होंने कहा कि सम्पूर्ण टीकमगढ़ जिले को सूखाग्रस्त नहीं भयंकर सूखाग्रस्त घोषित होना जनहित में होगा। इसी के साथ उन्होंने बिजली विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों से अपील की है कि जो भी राजस्व बकाया है उसे स्थिर कर दें। किसानों से अगली बारिश तक केवल लाइन चार्ज ही लिया जाए। बिजली बिल किसान, मजदूरों से न लिया जाए। प्रदेश महासचिव इंटक कांग्रेस ने कहा है कि जिले भर में पानी की भीषण समस्या में हमें खाद्यान्न व पेयजल का प्रबंधन पहले से ही खोजना पड़ेगा। जिससे मई व जून में पानी से मौतें न हो सकें। पस्तोर ने कहा कि कोई भी राजनीतिक दल हो पर सूखा के संकट में हमें मजदूर व किसान के लिए एक साथ मिलकर प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठकर इस संकट का उत्तम हल निकालना होगा। यही हम सबका नैतिक कर्तव्य और राजधर्म बनता है। 

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार