स्वाइन फ्लू से हफ्तेभर में चार की मौत, स्वास्थ्य विभाग बेखबर

On Date : 28 September, 2017, 10:22 PM
0 Comments
Share |

चार मरीजों में डेंगू और एक में चिकनगुनिया की भी पुष्टि 
इंदौर। स्वाइन फ्लू से मरीजों की मौत हो रही है और स्वास्थ्य विभाग को इसकी खबर ही नहीं लग पा रही है। हफ्तेभर में चार मरीजों की एच1एन1 संक्रमण से जान चली गई। किसी की रिपोर्ट देर से पहुंची तो किसी की अस्पताल ने ही जानकारी नहीं दी। अब तक शहर में स्वाइन फ्लू से 29 मौतें हो चुकी हैं। 
शहर से एच1एन1 के 22 संदिग्ध मरीजों के सैंपल भोपाल लैब भेजे गए थे। सभी की रिपोर्ट आई। इसमें पांच मरीजों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई। इनमें से चार की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार मिल क्षेत्र के 34 वर्षीय पुरुष ने 23 सितंबर को एमवाय अस्पताल में दम तोड़ा था। देवास की 26 वर्षीय महिला ने 26 सितंबर को घर पर ही दम तोड़ दिया।
वह बॉम्बे अस्पताल में भर्ती थी लेकिन परिजन उसे गंभीर स्थिति में उसी दिन गांव ले गए थे। इसी तरह ग्रेटर कैलाश अस्पताल में 13 और 18 सितंबर को एक पुरुष व महिला की मौत हो गई थी। दोनों ही स्वाइन फ्लू से पीड़ित थे लेकिन अस्पताल ने जानकारी ही नहीं दी। पुरुष जूनी इंदौर, जबकि महिला किला मैदान की रहने वाली थी। आईडीएसपी प्रभारी डॉ. आशा पंडित ने बताया अब तक हुई 29 मौतों में 18 इंदौर के मरीज शामिल हैं। अब चार मरीजों में डेंगू और एक में चिकनगुनिया की भी पुष्टि हुई।
ग्रेटर कैलाश अस्पताल को नोटिस
इधर, ग्रेटर कैलाश अस्पताल को मरीजों की मौत की जानकारी नहीं देने पर स्वास्थ्य विभाग ने नोटिस जारी किया है। अधिकारी के अनुसार इस समय यह बेहद संवदेनशील मुद्दा है। अस्पतालों को पहले से ही सतर्क रहने के निर्देश दिए जा चुके हैं, उसके बाद भी लापरवाही करना अनुशासनहीनता है।
गर्मी बढ़ने से कम हो सकता है प्रकोप
विशेषज्ञों के अनुसार अगर इसी तरह तापमान सामान्य से ज्यादा रहा तो स्वाइन फ्लू का प्रकोप कम हो सकता है। ठंडे मौसम में एच1एन1 संक्रमण ज्यादा फैलता है, जबकि गर्मी में खतरा कम हो जाता है। फिलहाल दिन का तापमान 33 डिग्री सेल्सियस पार चल रहा है।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार