जंगल के मैदानी अमले ने जाना सीड कलेक्शन

On Date : 13 October, 2017, 3:50 PM
0 Comments
Share |

प्रदेश टुडे संवाददाता, जबलपुर
बीज स्टैंड, सीड प्रोडक्शन एरिया की स्थापना, उनका रखरखाव, स्टोरेज के साथ सबसे बेहतर हाई क्वालिटी के सीड को वैज्ञानिक तरीके से उनका कलेक्शन करने जैसी कई महत्वपूर्ण जानकारी वैज्ञानिकों ने जंगल के मैदानी अमले पर नजर रखने वाले रेंजर्स को दी।
ट्रेनिंग प्रोग्राम की संयोजक डॉ. अर्चना शर्मा ने कहा कि वनीकरण कार्यक्रम को प्रभावी बनाने के लिए उत्तम बीज की गुणवत्ता का वैज्ञानिक ज्ञान होना आवश्यक है। उन्होने कहा कि बीज की गुणवत्ता, अनुवांशिक गुण, बेहतर स्त्रातों से संग्रह के समय बीज की परिपक्वता का समय तथा बीज की नमी से संबंधित विषयों पर रिसर्च से विकसित तकनीकों पर हमें काम करना होगा।
 सीड कलेक्शन को लेकर राज्य वन अनुसंधान केंद्र में पिछले तीन दिनों से चल रहे राज्य स्तरीय ट्रेनिंग प्रोग्राम के समापन सत्र का शुभारंभ डॉ. धर्मेन्द्र वर्मा डायरेक्टर एसएफआरआई की अध्यक्षता में हुआ। इस अवसर पर एसके शुक्ला, डीडीओ एवं कार्यालय प्रमुख आलोक शर्मा पर्यवेक्षक अधिकारी बीज शाखा तथा  वरिष्ठ  वैज्ञानिक उपस्थित थे। ट्रेनिंग प्रोग्राम में अनिरुद्ध सरकार का विशेष सहयोग रहा।
इन जिलों से आए रेंजर्स
ट्रेनिंग प्रोग्राम में ग्वालियर, सिवनी, बैतूल, रीवा, इंदौर, खंडवा, सागर, रतलाम सहित जबलपुर अनुसंधान एवं विस्तार वृत्तों से रेंजर्स, डिप्टी रेंजर्स एवं फारेस्ट गार्ड शामिल हुए।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार