अजान विवाद में मीका भी कूदे, सोनू को दी सलाह...

On Date : 20 April, 2017, 12:07 PM
0 Comments
Share |

नई दिल्ली: सिंगर सोनू निगम से जुड़े अजान विवाद में अब उनके ही बिरादरी के गायक मीका भी कूद गए है. सोनू निगम के लाउडस्पीकर वाले ट्वीट ने विवाद का रूप ले लिया है. इस विवाद में कई बॉलीवुड सेलिब्रेटी सोनू के साथ हैं तो कई उनके खिलाफ हैं. अब इस मामले में सिंगर मीका सिंह ने भी सोनू को सलाह दे डाली है. मीका ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि बड़े भाई मैं सिंगर के रूप में आपकी बहुत इज्जत करता हूं और अगर आपको अजान से परेशानी होती है तो आपको अपना घर बदल लेना चाहिए.

इसके जवाब में सोनू निगम ने लिखा कि अगर मैं लाउडस्पीकर की बात कर रहा हूं तो मैंने उसमें मंदिर और मस्जिद की बात भी की है. क्या इसे समझना इतना मुश्किल है. इसके बाद मीका ने एक और ट्वीट करते हुए लिखा कि मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा और चर्च सिर्फ लाउडस्पीकर के लिए नहीं जाने जाते हैं बल्कि लंगर, सम्मानजनक चीजों और दान के लिए भी जाने जाते हैं.

गौर हो कि चंद दिन पहले सोनू निगम ने लिखा था कि सुबह लाउडस्पीकर से दी जाने वाली अजान से उनकी नींद खराब होती है बाद में विवाद उठने पर सोनू निगम ने अपने निशाने पर मंदिर और गुरुद्वारों में बजने वाले लाउडस्पीकर को भी लिया. उन्होंने सफाई दी कि यह मुद्दा उन्होंने किसी खास धर्म को लेकर नहीं उठाया था.

सोनू ने कहा, ‘मैंने तो सिर्फ लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल के खिलाफ बोला था .हर किसी को अपनी राय जाहिर करने का हक है .मुझे अपनी राय जाहिर करने का हक है और इसे गलत तरीके से पेश नहीं किया जाना चाहिए .लाउडस्पीकर की कोई जरूरत नहीं है, वे किसी धर्म का हिस्सा नहीं हैं ।’ मशहूर गायक ने कहा कि उनका मकसद किसी की भावना को आहत करना नहीं था .उन्होंने कहा, ‘‘दि मैंने कुछ गलत किया है तो कृपया मुझे माफ कर दें .मेरी मंशा एक सामाजिक विषय पर बात करने की थी, न कि धार्मिक विषय पर ।’ सोनू ने कहा कि एक खास ट्वीट पर जोर देना गलत है, जिसमें उन्होंने लाउडस्पीकरों पर उपदेश को ‘गुंडागर्दी’ करार दिया था .उन्होंने कहा, ‘लोगों ने मेरे एक ट्वीट को हाथों-हाथ ले लिया जिसमें मैंने गुंडागर्दी का जिक्र किया था, उसमें मैंने मंदिरों और गुरूद्वारों का भी जिक्र किया था।’

जानेमाने गायक सोनू निगम ने एक मुस्लिम मौलवी के फतवे के जवाब में एक संवाददाता सम्मेलन कर मशहूर हेयर-स्टाइलिस्ट से अपना सिर मुंडवा लिया .मौलवी ने पिछले दिनों सोनू की ओर से किए गए विवादित ट्वीट के विरोध में फतवा जारी किया था .सोनू ने अपने ट्वीट के जरिए धार्मिक स्थलों में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल की आलोचना की थी .अपने विवादित ट्वीट पर बात करने के लिए सोनू ने संवाददाता सम्मेलन बुलाया था .सोमवार को किए गए सोनू के ट्वीट के विरोध में कोलकाता के रहने वाले सैयद शा आतिफ अली अल कादरी ने उनके खिलाफ फतवा जारी किया था .कादरी ने कहा था कि सोनू के सिर के बाल काटने वाले शख्स को 10 लाख रूपए दिए जाएंगे .हेयर-स्टाइलिस्ट आलिम हकीम जब तक अपना काम शुरू करते, उससे पहले सोनू ने इस बात पर जोर दिया कि उनके ट्वीट सुबह की अज़ान में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल के खिलाफ थे और उनका मकसद किसी खास धर्म को निशाना बनाना नहीं था .

सोनू ने कहा, ‘मैंने तो सिर्फ लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल के खिलाफ बोला था .हर किसी को अपनी राय जाहिर करने का हक है .मुझे अपनी राय जाहिर करने का हक है और इसे गलत तरीके से पेश नहीं किया जाना चाहिए .लाउडस्पीकर की कोई जरूरत नहीं है, वे किसी धर्म का हिस्सा नहीं हैं ।’ मशहूर गायक ने कहा कि उनका मकसद किसी की भावना को आहत करना नहीं था .उन्होंने कहा, ‘दि मैंने कुछ गलत किया है तो कृपया मुझे माफ कर दें .मेरी मंशा एक सामाजिक विषय पर बात करने की थी, न कि धार्मिक विषय पर ।’ सोनू ने कहा कि एक खास ट्वीट पर जोर देना गलत है, जिसमें उन्होंने लाउडस्पीकरों पर उपदेश को ‘गुंडागर्दी’ करार दिया था .उन्होंने कहा, ‘लोगों ने मेरे एक ट्वीट को हाथों-हाथ ले लिया जिसमें मैंने गुंडागर्दी का जिक्र किया था, उसमें मैंने मंदिरों और गुरूद्वारों का भी जिक्र किया था।’

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार