मप्र में सबसे ज्यादा सुरक्षित है गौ : स्वामी अखिलेश्वरानंद गिरि

On Date : 25 August, 2017, 9:54 PM
0 Comments
Share |

सिलवानी । सिलवानी में शुक्रवार को मध्यप्रदेश गोपालन पशुधन संवर्धन बोर्ड के अध्यक्ष महामंडलेश्वर स्वामी अखिलेश्वरानंद गिरि महाराज द्वारा जो कि जैन धर्मशाला में गणमान्य नागरिक एवं पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा की आज मध्यप्रदेश मैं सबसे ज्यादा गौ सुरक्षित है। उन्होंने गाय को लेकर कई बातें बताई  एवं उन्होंने कहा कि आज जो स्थिति विदेशों में बनी हुई है अगर वह धीरे-धीरे भारत में भी लागू होगी तो गाय और भी सुरक्षित हो जाएगी। हमारा लक्ष्य है कि मध्य प्रदेश में गोवंश सुरक्षित हो। 
 
हम चाहते हैं कि गौवंश सड़क पर न होकर हमारे घरों में हो एवं जिसकी हम सेवा कर सकें । वहीं उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में आज संपूर्ण गौ हत्या पर पूर्ण प्रतिबंध कानून लगा हुआ है। मध्यप्रदेश शासन द्वारा विशाल भूखंड में वन संरक्षण हेतु अभ्यारण की स्थापना की गई है। प्रदेश के आगर मालवा जिला अंतर्गत सुसनेर तहसील के सालरिया नामक स्थान पर स्थित है जिसमें 6000 गोवंश का संरक्षण होगा ।  यथाशीघ्र लोकार्पण  की तैयारी चल रही है साथी हम सभी नागरिकों का मौलिक अधिकार की रक्षा करें। धार्मिक दृष्टि से गोवध करना पाप है भारत में गायों की कत्लखाने बंद हो जिसके प्रतिपादन में गोवर्धन मध्यप्रदेश में पूर्णता प्रतिबंध है। देश के सभी राज्य को भारतीय संविधान की मंशा के अनुसार एवं सर्वोच्च न्यायालय की संविधान पीठ के निर्णय आलोक में गोवंश की रचना रक्षा हेतु सख्त कानून बनाकर इसके क्रियान्वयन हेतु जिला एवं प्रशासन को निर्देश देना चाहिए ।  मध्य प्रदेश गोवंश प्रतिशेध अधिनियम 2004 के साथ में मध्यप्रदेश गोवंश वध प्रशेध  अधिनियम 2012 तथा मध्यप्रदेश कृषिक पशु परिरक्षण अधिनियम 1559 नवीनतम न्याय दृष्टांत एवं अधिसूचना सहित प्रभावी है जहां गाय का आहार जंगल में है और जंगल का आहार गाय के पास इस समय के आधार पर जंगल में गायों का आश्रय स्थल सुनिश्चित किया जाना समय की अनिवार्य आवश्यकता है।
 
मध्य प्रदेश गौ संवर्धन बोर्ड के अंतर्गत मध्यप्रदेश गोचर भूमि विकास मिशन के गठन की योजना बनाई है । मध्य प्रदेश में 10 गोसदन शासन के पशुपालन विभाग द्वारा संचालित थे किंतु पूर्वर्ती शासन द्वारा अकारण यह सदन बंद कर दिए गए वर्तमान शासन की गौ संरक्षण समिति के अंतर्गत प्रदेश में आठ गौ सदनों में गोवंश वनविहार स्थापित करने का प्रस्ताव एवं संभावना है इसलिए आप सभी इस में अपना सहयोग दें और गोवंश को बचाएं साथ में किसानों से भी मैं यह कहूंगा कि आज आपका धन गौधन है इस को बचाएं जब धन बचेगा जब भी आप आगे अग्रसित हो पाएंगे ।  उन्होने कहा कि प्रदेष में गौरक्षा नीति बनाई जा रही है गौ रक्षा नीति के अमल में आते ही गौवंष की सुरक्षा और बेहतर तरीके से हो सकती है। टीका टिप्पणी करने के बजाज कार्य का संपादन करना चाहिएए ताकि किए जा रहे कार्य को गति मिल सके। उन्होने दान की महिमा का वर्णन करते हुए कहा कि दान करने से लोक ही नही परलोक भी सुधर जाता है। लाभांष की राषि का तय हिस्सा दान किया जाना चाहिए। आपने गाय बचाओं देष बचाओं का नारा देते हुए कहा कि गाय माता की चिंता सभी को करनी होगी। चुनाव तो आते जाते रहते है लेकिन गाय हमेशा माता ही रहेगी। गाय की सेवा किए जाने का संकल्प लेना चाहिए। वर्तमान में गौवंश सडक पर मारा मारा विचरण कर रहा है जो कि मानवीय दृष्टि कोध से उचित नही है। स्वामी अखिलेशवरानंद गिरि ने कहा कि नर्मदा नदी के किनारे तय सीमा में गौषाला का निर्माण कराए जाने की कार्य योजना पर कार्य किया जा रहा है यह कार्य मनरेगा से कराया जाएगा। एक मिषन के तहत ही कार्य किया जा रहा है। गाय का संबंध लोक परलोक अध्यात्म सुरक्षा आदि से है। गाय के गोबर से होने वाले लाभ को विस्तार से बताते हुए कहा कि समाधि खाद बनाए जाने की प्रक्रिया अपनाई जाना चाहिए। ताकि समाधि कार्य का लाभ प्राप्त हो सके ।
 
गौ शाला प्रवंधन को दिए निर्देश
वही महाराज जी ने सिलवानी में स्थित गौ शाला का निरीक्षण भी किया । साथ  ही गौ शाला प्रवंधन को निर्देशित भी किया कि आप ओर सुधार करे जिससे कि आगे से कोई शिकायत नही आवे । वही हडडी का ठेका भी निरस्त करने की भी प्रवंधन को हिदायत दी है । एवं साथ ही गौ शाला प्रवंधन को हिदायत भी दी की मृत गायो को नष्ट किया जावे एवं उससे खाद बनाया जाय । 

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार