PM आवास में सुस्त अफसर 16 जिलों के CEO को फटकार

On Date : 12 January, 2018, 1:05 PM
0 Comments
Share |

प्रसं,भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चाहते है कि मध्यप्रदेश में रहने वाले हर परिवार के खुद के घर का सपना साकार करे। लेकिन मध्यप्रदेश के अफसर सीएम की मंशा के अनुरुप काम नहीं कर रहे है। प्रदेश स्तर पर जहां एक माह पहले तक तीन हजार आवास प्रतिदिन के औसत से बन रहे थे यह गति कम होकर अब एक हजार आवास प्रतिदिन पर आ गई है। सोलह जिलों में आई इस गिरावट को लेकर पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैस ने इन जिलों के मुख्य जिला पंचायत अधिकारियों को फटकार लगाते हुए काम में गति लाने के निर्देश दिए है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के एसीएस ने ग्रामीण अंचलों में प्रधानमंत्री आवास योजना की समीक्षा की तो यह सामने आया कि जोबट, रानापुर, चितरंगी, बाग, त्योंथर, सीधी, शाहपुर, मझगवा, मेंहदवानी तथा शैलाना जनपदों में प्रधानमंत्री आवास पूर्ण करने की गति काफी धीमी है। अलीराजपुर, अपूपपुर, छतरपुर, छिंदवाड़ा, धार, डिंडौरी,गुना, खरगौन, मंदसौर, नरसिंहपुर, रायसेन, सिवनी, शहडोल, शिवपुरी और सीधी जिलों में प्रधानमंत्री आवास निर्माण की गति काफी कम हो गई है। बैस ने इन सभी जिला पंचायत और जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को शेष निर्माणाधीन आवास जनवरी, फरवरी और मार्च के लक्ष्य के अनुरुप तैयार करने में तेजी लाने के निर्देश दिए है।
बनेंगे 30 हजार अतिरिक्त मकान
सहरिया, बैगा और भारिया जनजातियों के लिए तीस हजार अतिरिक्त आवास का लक्ष्य तय किया गया है। उसे भी समय पर पूर्ण करने के निर्देश दिए गए है। पुरानी आवास योजनाओं में दिसंबर में मात्र 2750 आवास पूर्ण हो पाए है। जिला पंचायतों के सीईओ द्वारा समीक्षा नहीं किए जाने से प्रगति कम हो रही है। इसमें तेजी लाने को कहा गया है।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार