करोड़ों से चकाचक नए वार्डों को मरीजों ने बना दिया ‘कचराघर’

On Date : 12 October, 2017, 4:04 PM
0 Comments
Share |

प्रबंधन और सफाईकर्मी हलाकान, अब स्वच्छता संदेश के लिए लग रही स्लोगन प्लेट
प्रदेश टुडे संवाददाता, जबलपुर

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में जेडीए के सहयोग से करोड़ों रुपए लगाकर चकाचक किए गए वार्ड चंद दिनों में कचरा घर में तब्दील होते दिखाई दे रहे है। यहां पर भर्ती मरीज और उनके परिजनों द्वारा इस तरह की गंदगी मचाई जा रही है कि प्रबंधन समझाईश दे-देकर और सफाई कर्मी सफाई करके हलाकान हैं, लेकिन मरीज और उनके परिजन मानने को ही तैयार नहीं हैं। मेडिकल अस्पताल में ऐसे हालात नए वार्डों के साथ पुराने वार्डों में भी देखने को मिल जाएंगे। पुराने वार्डों में ये माना जा रहा है कि यहां पर व्यवस्थाएं नहीं हैं, लेकिन यदि नए वार्डों में सारी व्यवस्थाएं होने के बाद भी गंदगी से आलम इस तरह का है कि यहां पर चिकित्सकों और स्टॉफ का खड़ा रहना दूभर हो रहा है। हालात ये हैं कि पूरे अस्पताल में अब स्वच्छता का संदेश देने वाली स्लोगन युक्त प्लेट, फ्लैक्स बैनर दीवारों पर लगाए जा रहे हैं, ताकि लोगों में जागरुकता आ सके और वे अस्पताल को स्वच्छ बनाए रखें।  

समझाने पर विवाद कर बैठते हैं परिजन
चिकित्सकों और स्टाफ का कहना है कि यहां पर भर्ती मरीजों के परिजनों को जब साफ-सफाई के लिए हिदायत दी जाती है, तो वे उल्टा ही बरस पड़ते हैं। कई बार मरीज के परिजनों और स्टॉफ, जूडा के बीच विवाद तक की स्थिति बन जाती है।  

रोजाना सभी वार्डों में सफाई कराई जाती है, लेकिन बीच-बीच में निरीक्षण के दौरान पाया जा रहा है कि मरीज और उनके परिजन अपने आसपास गंदगी करते हैं। चिकित्सकों और कर्मियों द्वारा समझाईश के बाद भी परिजन मनाने को तैयार नहीं हैं। मरीज के परिजनों के साथ सख्ती बरती जाती है तो वे विवाद पर उतर आते हैं, लिहाजा सिर्फ अपील की जा रही है ताकि इसे लेकर कोई परेशानी मरीजों को न हो।
डॉ. राजेश तिवारी, अधीक्षक
मेडिकल कॉलेज अस्पताल

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार