प्रो.संगीता अब सबसे जूनियर VC स्थायी समिति के अध्यक्ष पद से हटीं

On Date : 06 December, 2017, 5:45 PM
0 Comments
Share |

विक्रम विवि उज्जैन के कुलपति प्रो.पांडे बने नए अध्यक्ष
प्रदेश टुडे संवाददाता, ग्वालियर
जीवाजी विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो.संगीता शुक्ला अब सबसे जूनियर कुलपति हैं। पुन:वीसी बनने के बाद प्रदेश के विश्वविद्यालयों के बाकी वीसी उनसे सीनियर हो गए हैं। पहले प्रो.संगीता सबसे सीनियर वीसी थीं,इसलिए उन्हें कुलाधिपति व राज्यपाल ने समन्वय समिति की स्थायी समिति का अध्यक्ष मनोनीत किया था। अब इस पद से प्रो.संगीता को हटाकर विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के कुलपति प्रो.एसएस पांडे को स्थाई समिति का अध्यक्ष मनोनीत किया गया है। सीनियरिटी के अधार पर प्रो.पांडे को यह जिम्मेदारी दी है।
बता दें कि विश्वविद्यालयों की समन्वय समिति की बैठक कुलाधिपति व राज्यपाल की अध्यक्षता में होती है। इस समन्वय समिति में वे ही मसले ले जाए जाते हैं जो कुलपतियों की स्थायी समिति में मंजूर हो जाते हैं। इस स्थायी समिति का अध्यक्ष सबसे सीनियर कुलपति होता है। पिछले कार्यकाल में जेयू की वीसी प्रो.संगीता शुक्ला सबसे सीनियर थीं,इसलिए उन्हें कुलाधिपति ने स्थायी समिति का अध्यक्ष मनोनीत किया था। उनकी अध्यक्षता में कई बैठकें हुर्इं,जिमनें बड़े फैसले हुए। बाद में समन्वय समिति में नए फैसलों को अंतिम मंजूरी मिली। इनसे पहले जेयू के पूर्व कुलपति प्रो.एम.किदवई भी स्थाई समिति के अध्यक्ष रह चुके हैं। अब जैसे ही प्रो.संगीता का जेयू के वीसी पद पर पुन:नियुक्त हो गई है तो वे प्रदेश के विवि के कुलपतियों में सबसे जूनियर हो गर्इं हैं। इसके चलते उन्हें स्थायी समिति के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया है।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार