बारिश-ठंड से ठिठुरी शिवरात्रि की सुबह

On Date : 13 February, 2018, 4:52 PM
0 Comments
Share |

मावठे के असर से जनजीवन अस्त-व्यस्त, घरों में दुबके लोग, कल तक रहेगा असर

प्रदेश टुडे संवाददाता, जबलपुर
शिवरात्रि की भोर में श्रावणी सोमवार जैसे दीदार। आज की सुबह से रिमझिम और फिर झमाझम बारिश से भीग गई मानो भोलेबाबा का जलाभिषेक करने की इंद्रदेव ने ठान ली हो। ऐसा अचानक आए मावठे के कारण हुआ। इस बार मावठे की खास बात ये रही कि ये तापमान में उठाव के बाद भी जबरदस्त ठंड लेकर आया। त्यौहार, ठंड और बारिश का कॉम्बिनेशन बहुत कम देखने मिलता है। बारिश के कारण जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ। सड़कें, गलियां कीचड़ मय थीं। अपरान्ह 12 के आसपास मौसम खुल सका, लेकिन मौसम विभाग ये कहने की स्थिति में नहीं था, कि अब बारिश नहीं ही होगी। हां, पूर्वानुमान बता रहे हैं कि कल शाम से ‘मावठे’ से निजात मिलना शुरू हो जाएगी।
त्यौहार की तैयारियों पर असर
शिवरात्रि पर त्यौहार की तैयारियों पर असर पड़ा है। न सिर्फ आम लोग बल्कि मठ-मंदिरों में हो रहे धार्मिक आयोजनों में भी मावठे ने बाधा डाली है। वो तो अच्छा ये है कि अधिकांश लोग शिवरात्रि कल मना रहे हैं।  ट्रेम्प्रेचर भी दिन का साामन्य से कम है, इस कारण ठंडक का भी अहसास हो रहा है। रही सही कसर पश्चिमी विक्षोभ के चलते ठंडी हवाओं ने पूरा कर दिया। आज सुबह से तापमान सामान्य से 2 डिग्री कम रिकॉर्ड हो रहा है। कल का तापमान 24. 2 है, आज सुबह 15.8 के साथ ये सामान्य से चार डिग्री अधिक हो गया।

ठंड का दूसरा कारण मावठे की बारिश के चलते वातावरण में नमी है। आज 92 प्रतिशत आद्रता रिकार्ड की गई। धूप तो गायब ही रही। लो प्रेशर के चलते 18-.8 मिमी बारिश हो गई सो अलग। आज तक इस सीजन में कुल 28 मिमी बारिश हो चुकी है। यही कारण था कि मामला ठंड के लिहाज से अनुकू ल होने के बाद भी मौसम के जलवे ‘तीखे-तीखे’ रहे।

ठंड ने आज आम जनजीवन पर खासा असर डाला। अधिकांश की दिनचर्या ‘ठंडमय’ थी। बच्चे-बड़े सभी की ‘मार्निंग’ आज लेट हो गई। घरों से लेकर बाजार तक ‘भजिए-पकोड़े’ के साथ ही ‘कड़क-टी’ डिमांड में थे। मौसम विभाग के मुताबिक कल शाम से मावठे का अहसास कम जो जाएगा और 15 से तापमान में गिरावट शुरू हो जाएगी।

कलेक्टर ने जारी किया अलर्ट ,अधिकारियों को मैदानी हकीकत जानने फील्ड पर दौड़ाया
पिछले तीन दिनों से हो रही बूंदाबांदी कल रात से बारिश में बदल जाने से किसान परेशान हो उठे हैं। संभाग के अन्य जिलों में तेज बारिश के साथ कहीं-कहीं ओले गिरने की भी खबरें आ रही हैं। अभी तक हो चुकी बारिश और हवा के कारण चना, मसूर,बटरी जैसी दलहनों फसलों को भारी नुकसान होने की खबर है। इसी बीच कलेक्टर महेश चंद चौधरी ने अलर्ट जारी कर कृषि और राजस्व अधिकारियों को मैदानी हकीकत का जायजा लेने के निर्देश दिए हैं।  बारिश में खास तौर पर खेत में खड़ी फसल के अलावा कटाई के लिए तैयार या खलिहान में कट कर रखी गई फसल खराब हो गई है। चूंकि अभी तक जिले में ओला गिरा नहीं, लेकिन गिरने की आशंका से किसान का मन कांप रहा है। हालांकि इसके बावजूद मावठे की इस बारिश को गेहूं के लिए फायदेमंद माना जा रहा है लेकिन चना,मसूर,बटरी के लिए ये बारिश कहर बन कर आई है।

प्रशासन हरकत में इमरजेंसी मीटिंग
इधर ,मौसम को देखते हुए जिला कलेक्टर महेशचंद्र चौधरी के निर्देश पर उप संचालक कृषि सहित राजस्व अमले को मैदानी स्थिति का आंकलन करने कहा गया है। इसके चलते राजस्व निरीक्षक, पटवारी और कृषि विस्तार अधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों में किसानों से सम्पर्क कर खेत पहुंच मैदानी स्थिति का जायजा ले रहे हैं। आज जनसुनवाई के तुरंत बाद कलेक्टर महेशचंद्र चौधरी स्वयं भी फील्ड विजिट पर रवाना हो गए।

बारिश के कारण अलर्ट जारी कर दिया गया है, कृषि और राजस्व विभाग को फील्ड विजिट कर किसानों से सम्पर्क करने तथा मैदानी स्थिति पर नजर रखने कहा है, अधिकारियों को विशेष रुप से फील्ड पर जाने कहा गया है। चूंकि बिजली गिरने और ओलावृष्टि की भी संभावना बनी हुई है इसलिए एहतियात बरतने निर्देश जारी किए गए हैं।   महेशचंद्र चौधरी, कलेक्टर

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार