रावत ने कश्मीरो युवको को दी सलाह- बंदूक से कुछ नहीं होगा हासिल

On Date : 15 April, 2018, 7:41 PM
0 Comments
Share |

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में पिछले कुछ समय में स्थानीय युवकों के आतंकवादी गतिविधियों की ओर झुकाव के बीच सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने आज उम्मीद जतायी कि राज्य में जल्द ही स्थिति सामान्य हो जायेगी। जम्मू कश्मीर लाइट इंफेन्ट्री की स्थापना के सात दशक पूरे होने के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में रावत ने कहा कि राज्य में कुछ युवक मुख्यधारा से भटक गये हैं और उनका मानना है कि वे बंदूक से अपना लक्ष्य हासिल कर सकते हैं। लेकिन इन युवकों को जल्द समझ में आ जायेगा कि इनका मिशन बंदूक से सफल नहीं होने वाला।

कश्मीर की स्थिति है खराब
सेना प्रमुख ने कहा कि घाटी की स्थिति में सुधार के लिए शांति ही एकमात्र उपाय है और ज्यादातर लोग इस बात को मानते भी हैं। कश्मीर में स्थिति खराब होने की बात को नकारते हुए उन्होंने कहा कि वहां माहौल खराब हुआ है लेकिन स्थिति नहीं बिगडी है। उन्होंने कहा कि युवाओं को राज्य की सबसे बड़ी खासियत ‘कश्मीरियत’ से रूबरू कराने की जरूरत है और सभी मिलकर यह काम कर सकते हैं। रावत ने 70 वर्षों से देश में सेवारत इस रेजिमेंट के योगदान की सराहना की।
वहीं जेकेएलआई के कर्नल ऑफ रेजिमेंट लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ ने अपने अनुभव सांझा करते हुए कहा कि आजादी के बाद स्थानीय स्वयंसेवकों के गुटों ने पाकिस्तानी हमलावरों के जम्मू कश्मीर पर हमलों का डटकर मुकाबला किया और उन्हें मुंहतोड़ जवाब दिया। लड़ाई के बाद इन्हें जे एंड के मिलिशिया नाम दिया गया। उस समय यह राज्य में अद्र्धसैनिक बल की तरह काम करती थी। पाकिस्तान के साथ 1971 की लड़ाई में जे एंड के मिलिशिया की तीन बटालियनों ने युद्ध पदक जीते और 1972 में इसे सेना का हिस्सा बनाया गया तथा 1976 में इसका नाम जम्मू एंड कश्मीर लाइट इन्फेंट्री रखा गया।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार