रिटायरमेंट मतलब रिटायरमेंट, अब IPL में भी नहीं खेलूंगा :नेहरा

On Date : 12 October, 2017, 6:25 PM
0 Comments
Share |

नई दिल्ली : मौजूदा दौर में भारत के सबसे अनुभवी तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी. नेहरा अपने जीवन का अंतिम अंतर्राष्ट्रीय मैच एक नवंबर को न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने घर दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर होने वाले टी-20 मैच के रूप में खेलेंगे. 38 साल के नेहरा इसके बाद किसी भी प्रारूप में भारतीय जर्सी में नजर नहीं आएंगे. क्रिकइंफो की रिपोर्ट के मुताबिक, नेहरा घरेलू क्रिकेट और टी-20 से भी संन्यास ले रहे हैं. साथ ही वह इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में भी खेलते हुए नजर नहीं आएंगे.

आशीष नेहरा के संन्यास की खबर के बाद उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की और रिटायरमेंट को लेकर अपनी बात सामने रखी. नेहरा ने कहा कि, रिटायरमेंट लेना तब हमेशा बेहतर होता है जब आप लोगों के क्यों कहने से पहले क्यों नहीं कह सकें. उन्होंने कहा कि, लोग मुझसे पूछ रहे हैं कि अभी तो आप आईपीएल खेल सकते हैं, फिर संन्यास क्यों ले रहे हैं. इसका जवाब है कि, मैं अभी इंटरनेशनल क्रिकेट भी खेल सकता हूं और आईपीएल खेलने का भी मेरे पास पर्याप्त समय है, लेकिन मैं अगर छोड़ रहा हूं तो कहीं नहीं खेलूंगा.

उन्होंने कहा कि अगर मैंने कोई फैसला ले लिया है तो इसमें कोई वापसी नहीं है. अगर मैं रिटायर हो रहा हूं तो इसका मतलब है कि मैं आईपीएल भी नहीं खेलूंगा. आशीष नेहरा ने कहा कि ये मेरा फैसला है. दिल्ली में 1 नवंबर को होने वाले मैच में मैं क्रिकेट को अलविदा कह दूंगा. इससे बेहतर कुछ नहीं होता कि आप अपने होम ग्राउंट (होम टाउन) पर अपनी आखिरी पारी खेलें. नेहरा ने यह भी कहा कि, भुवनेश्वर कुमार काफी अच्छा कर रहे हैं. पिछले कुछ वक्त में जब मैच हुए तो मुझे और मोहम्मद शमी या भुवनेश्वर कुमार को बाहर बैठना पड़ता था.

बता दें कि नेहरा का करियर चोटों से काफी प्रभावित रहा है. उन्होंने अपने करियर में कुल 12 सर्जरी कराई हैं. नेहरा ने कई बार टीम से बाहर जाने के बाद वापसी की है. 2016 में उनके द्वारा की गई वापसी के बाद से उन्होंने खेल के छोटे प्रारुप में टीम को काफी कुछ दिया. चोटों से वापसी करते हुए ही उन्होंने 2011 विश्व कप टीम में जगह बनाई थी और टीम को विजेता बनाने में रोल निभाया था. वह पिछले साल टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली भारतीय टीम का भी हिस्सा थे.

नेहरा को 2003 विश्व कप में इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए मैच में छह विकेट लेने के लिए जाना जाता है. इस मैच में उन्होंने इंग्लैंड की कमर तोड़ दी थी और भारत को जीत दिलाई थी. इस विश्व कप में नेहरा, जहीर खान और जवागल श्रीनाथ की तिकड़ी ने भारत को फाइनल में पहुंचाने में अहम भूमिका अदा की थी.

आशीष नेहरा ने 1999 में दिसंबर में श्रीलंका के खिलाफ कोलंबो में मोहम्मद अजहरुद्दीन की कप्तानी में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया था. हालांकि वह टेस्ट क्रिकेट ज्यादा नहीं खेल पाए. उनके खाते में सिर्फ 17 टेस्ट मैच हैं जिसमें उन्होंने 44 विकेट लिए हैं. उन्होंने अपना आखिरी टेस्ट मैच रावलपिंडी में पाकिस्तान के खिलाफ 2004 में खेला था.

वनडे में नेहरा ने भारत के लिए 120 मैच खेले हैं और 157 विकेट लिए हैं. जिम्बाब्वे के खिलाफ 2001 में हरारे में अपना पहला मैच खेलने वाले नेहरा ने अपना आखिरी वनडे 2011 विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ 30 मार्च को खेला था.

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार