सड़कों की हालत हुई बदतर एक माह भी नहीं चल पा रही

On Date : 20 December, 2017, 11:24 PM
0 Comments
Share |

महागौर में बनी सीसी रोड एक माह में उखड़ी, खुली ठेकेदार की पोल
प्रदेश टुडे संवाददाता, गंजबासौदा
मप्र के मुखिया शिवराज सिंह चौहान द्वारा बड़ी बड़ी बातें करने और झूठ की मशीन कहने वाली कांग्रेस के दावे कहीं न कहीं सत्य साबित होते नजर आते हैं। विगत दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वॉशिंगटन यात्रा के दौरान जिस तरह से सड़कों की तारीफ अतिश्योक्तिपूर्ण करते हुए यहां की सड़कों को वॉशिंगटन की सड़कों से भी अच्छा बताया गया था। लेकिन वास्तविकता में विदेशों में अपने मुंह मियां मिट्ठू बनने की बात धरातल पर शत प्रतिशत झूठी साबित होती नजर आ रही है। इसके प्रत्यक्ष उदाहरण है कि मुख्यमंत्री के गृह जिले कहे जाने वाले विदिशा जिले की शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों की सड़कों की हालत बद से बदतर स्थिति में होना है। यहां ठेकेदार और विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों की सांठगांठ से यह वॉशिंगटन से अच्छी सड़कें एक माह से अधिक समय भी नहीं चल पा रही हैं। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण ग्रह जिले की सबसे बड़ी तहसील कहलाने वाले गंजबासौदा तहसील कार्यालय से महज तीन से चार किलोमीटर की दूरी पर ग्राम पंचायत महागौर में रेल्वे फाटक से लेकर कुछ दूरी तक के लिये बनाई गई सीसी रोड जो एक माह की कम समय में ही उखड़ गई और दावों की पोल जनता के सामने खुलती नजर आई। वहीं महागौर गेट से लेकर लाल पठार होते हुए त्योंदा रोड मार्ग तक बनी डामरीकरण वाली सड़क जो निर्माण से लेकर वर्तमान समय में गारंटी पीरियड में चल रही है। उसमें भी बड़े बड़े गड्डे होने के बाद ठेकेदार द्वारा जिस तरीके से गुणवत्ताहीन पेंचवर्क किया जा रहा है। उससे भी विभाग के अधिकारियों और ठेकेदारों के बीच भ्रष्टाचार और सांठ गांठ उजागर हो रहा है। जहां पेंचवर्क का कार्य कहीं बिना मिट्टी हटाये तो अधिकांश जगह बिना डामर और इमलसन डाले ही कर दिया गया।
जीएम से लेकर एएम तक जानकारी होने के बाद भी शासन को लग गया लाखों का चूना
ग्रामीणों की मानें तो जीएम से लेकर एएम तक सभी को किये जा रहे सड़क निर्माण में घटिया सामग्री और बिना किसी टेक्निकल अधिकारी की मौजूदगी में यह कार्य संपन्न किया जा रहा था। और न ही सभी प्रकार की सड़क निर्माण में लागू होने वाली नियम और शर्तों का पालन किया गया। नतीजन लाखों रूपये की सीसी सड़क निर्माण में शासन को लाखों रूपये का चूना विभागीय अधिकारी और ठेकेदार की मिली भगत से लगाया गया।

एक माह नहीं चल सकी
सीसी सड़क
समीपस्थ ग्राम महागौर में प्रधानमंत्री सड़क निर्माण के लिये फाटक से लेकर सरजूबाई के घर तक 419 मीटर के लगभग सीसी सड़क का निर्माण कराया जाना था। निर्माणाधीन सड़क प्रारंभ से ही घटिया निर्माण के चलते विवादों में बनी रही। कई बार शिकवे शिकायत होने के पश्चात भी इस ओर शासन के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा किसी भी प्रकार से ध्यान न देकर ठेकेदार के अनुसार ही सड़क निर्माण कराया गया। जिसमें डाले गये मटेरियल में भी जमकर भ्रष्टाचार किया गया। जिस समय सड़क का निर्माण कार्य किया जा रहा था। उस समय ग्रामीणों के द्वारा सीसी निर्माण का कार्य रोकने के लिये भी अधिकारियों से लिखित शिकायत भी की जा चुक ी थी। लेकिन ठेकेदार के सामने सभी अधिकारी बोने साबित हो रहे थे। इसके चलते डाली गई गुणवत्ताहीन सड़क चंद दिनों में ही उखड़ गई। न तो वहां कोई विभागीय टेक्निकल अधिकारी मौके पर पहुंचा और न ही जीएम और एएम जैसे अधिकारियों ने अपनी आॅफिसों से निकलकर बाहर आना मुनासिब भी नहीं समझा।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार