सूरमा की फैंक 14 नवंबर 2017

On Date : 14 November, 2017, 12:30 PM
0 Comments
Share |

किरदार की अजमत को गिरने न दिया हमने, धोखे तो बहुत खाए, धोखा न दिया हमने। आशुतोष शुक्ला को उनकी धारदार कलम और अलग अंदाज की खबरों के लिए जाना जाता है। ये करप्ट सिस्टम पे जित्ता बेखौफ लिखते हैं उत्ता लिखना हर किसी के बूते का नहीं। गोया कि शुक्लाजी के यहां जर्नलिज्म का कमिटमेंट आज भी जिंदा है। गुजिश्ता दिनों हिन्दुस्तान टाइम्स की लंबी पारी खेलके भास्कर गुप्र के डीबी पोस्ट में गए आशुतोष को वहां का माहौल रास नहीं आया और भाई दफ्तर की सीढ़िया उतर लिए। कु छ दिन खाली बैठने के बाद हाल ही में पायनियर दिल्ली ज्वाइन किया था। दिल्ली की हवा भी इने रास नहीं आई और कल ही इन्ने टाइम्स आॅफ इंडिया भोपाल में लपक एन्ट्री मारी हेगी। भाई यहां असिस्टेंट एडिटर हो गए हैं। कोई बाइस बरस की सहाफत में मियां खां एमपी कॉनिकल, फ्रीप्रेस में भी रहे। टाइम्स आॅफ इंडिया में इनकी आमद के बाद उम्मीद की जा रही है कि ये यहां अपने हुनर का पूरा मुजाहिरा करेंगे। धुरंदर अंग्रेजी पत्रकार की इमेज के बाद भी मियां खां बेहद सादा मिजाज हैं और कॉमरेड वाले अंदाज में सभी को बराबर तवज्जो देते हैं। मुबारक हो साब।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार