सूरमा की फैंक 16 अप्रैल 2018

On Date : 16 April, 2018, 12:53 PM
0 Comments
Share |

और बड्डे कयाए चल्लओ, बेजां मुटिया गए तुम तो, और सुनाओ मोड़ा-मोड़ी का कर रए आज कल। कुछ इस तरह के जुमले डॉ. हरि सिंह गौर विवि सागर के पत्रकारिता विभाग के 1983-84 वाले पहले बैच और बाद के बैचों के ओल्ड स्टूडेंटों की अल्यूमिनाय मिट में सुनाई दिए। इसमें पूरे देश के करीब ढाई सौ पूर्व छात्रों ने शिरक त करी। सागर यूनिविर्सिटी के उसी पुराने पत्रकारिता डिपार्टमेंट में पहुंच कर भाई लोग पुरानी यादों में खो गए। एक दूसरे के साथ खूब फोटू खिंचवाएं गए। फिर बाद में शुरु हुआ रंगारंग कार्यक्रमों का दौर किसी ने फिल्मी गीत सुनाए तो किसी ने मिमीक्रि आईटम पेश किए। किसी ने कविता सुनाई तो किसी ने कव्वाली पेश करी। यहां उस दौर के पत्रकारिता विभाग के गुरु केजी मिसर,डॉ प्रदीप कष्णात्रे, और देवेन्द्र कोर उप्पल भी मौजूद रहे। इस यूनिवर्सिटी से निकल कर देश में नाम कमाने वाले पत्रकार मुकेश कुमार, डॉ शिवकुमार विवेक के अलावा भोपाल से पत्रकार राजीव सोनी, आलोक सिंघई, अजय त्रिपाठी और जनसंपर्क के डिप्टी डायरेक्टर अशोक मनवानी भी मौजूद थे। यूनिवर्सिटी के गुरु रहे स्व. भुवन भूषण देवलिया की याद में भोपाल में होने वाले समारोह में ही अशोक मनवानी ने इस अल्यूमिनाय मीट का विचार रखा था। पत्रकारिता के ये पुराने छात्र अब और भी पुराने छात्रों का डाटा जुटा रहे हैं। तो साब आप सबों को इस यादगार पिरोगराम के लिए दिली मुबारकबाद।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार