सूरमा की फैंक 20 मार्च 2017

On Date : 20 March, 2017, 12:46 PM
0 Comments
Share |

आग थे इब्तिदा-ए-इश्क में हम, अब जो हैं खाक इंतिहा ये है। अभी चंद रोज पेलेई भास्कर गुरुप के अंग्रेजी अखबार डीबी पोस्ट ने एक साल पूरा करा हेगा। बाकी खां भाई मियां आप कुछ बी कहो, अखबार इस वक्फे में रीडरों में अपनी कुछ खास पेचान नर्इं बना सका। वैसे इब्तिदाई दौर में स्पीड अच्छी पकड़ी थी डीबी पोस्ट ने। एक्सक्लूसिव खबरें भी भोत होती थीं। अब अखबार के नशेबोफराज देखके लगता है कि गुब्बारे की हवा निकल गई है। न कोई लाइन न कोई लेंग्थ। कोई तरतीब नर्इं बस सब खल्लूखारा हुआ जा रिया हेगा। दरअसल हुआ क्या के टीम तो भोत अच्छी जुटाई थी मैनेजमेंट ने लेकिन हालात कुछ ऐसे बने के जानदार पत्रकार भां टिक नहीं सके। शुरु में शम्सउर रहमान अलवी, श्रावणी सरकार और शाहरोज आफरीदी ने यहां से किनारा कर सबको चौंका दिया था। बाद में अमित साहनी,आशुतोष शुक्ला, प्रवेश गौतम जो करंट स्टोरी डॉट कॉम नाम से अपनी वेबन्यूज चला रहे हैं,जनार्दन दीक्षित, आशीष तिवारी, समीर मुलगांवकर, रजा नकवी, प्राची मुजुमदार और अर्चना जैसे भन्नाट पत्रकार भी यहां से निकल लिए। कहीं ऐसा नर्इं हो साब के  डीबी का हश्र भी नेशनल मेल जैसा हो जाए।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार