JNU छात्रों और शिक्षकों के समर्थन में आईं स्वरा भास्कर

On Date : 11 October, 2017, 11:39 AM
0 Comments
Share |

नई दिल्ली: अभिनेत्री और जेएनयू की भूतपूर्व छात्रा स्वरा भास्कर ने यौन उत्पीड़न के मामलों पर नजर रखने वाली इकाई जीएससीएएसएच को फिर से स्थापित करने की मांग कर रहे विश्वविद्यालय के छात्रों और शिक्षकों को अपना समर्थन दिया है. अपनी फिल्म ‘अनारकली ऑफ आरा’ की स्क्रीनिंग के लिए जेएनयू पहुंची स्वरा ने  कहा, ‘‘यौन उत्पीड़न के खिलाफ लिंग संवेदीकरण समिति (जीएससीएएसएच) ने यह संभव कर दिया था कि महिलाएं सुरक्षित महसूस करें.’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे यह समझ नहीं आता कि क्यों कोई पहले से सुरक्षित कैम्पस को असुरक्षित बनाना चाहता है.’’ स्वरा भास्कर ने जेएनयू में इसके अलावा कई मुद्दों पर बात की, जिसमें महिला टीचर्स के शारीरिक शोषण का मुद्दा भी शामिल था. इस दौरान उन्होंने अपने बारे में बात करते हुए बताया, कि जेएनयू आपको स्टेटस की सोच से लड़ने की ताकत देता है. यहां पढ़ाई करने के बाद मेरी जिंदगी बदल गई.

गौरतलब है कि छात्रों एवं शिक्षकों के एक वर्ग ने प्रशासन के जीएससीएएसएच की जगह नयी समिति के गठन के फैसले को चुनौती दी थी. इसके बाद अदालत ने प्रशासन को जीएससीएएसएच कार्यालय की सीलिंग को लेकर यथास्थिति बनाए रखने का निर्देश दिया था और याचिका पर जवाब मांगा था.

वहीं समिति के भंग किए जाने के बावजूद पिछले दिनों छात्र चुनाव समिति ने विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा लागू किए गए प्रतिबंधों की अनदेखी करते हुए चार प्रतिनिधियों के निर्वाचन के लिए चुनाव कराया था. इस चुनाव में 23.9 प्रतिशत वोटिंग हुई थी. चुनाव की बात सामने आने के बाद जेएनयू के मुख्य प्रॉक्टर और रजिस्ट्रार ने सैनी और अन्य को भंग समिति का चुनाव कराने पर कार्रवाई का सामना करने की धमकी दी थी.

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार