अजा कल्याण विभाग का बाबू 9 और पटवारी 5000 लेते धराए

On Date : 24 August, 2017, 10:10 PM
0 Comments
Share |

नौगांव-छतरपुर में रिश्वतखोरों पर लोकायुक्त की कार्रवाई
छतरपुर। लोकायुक्त पुलिस ने जिला मुख्यालय एवं नौगांव में अजा कल्याण विभाग के बाबू को 9 हजार और नौगांव में पटवारी को 5 हजार की रश्वित लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। पूरी घटना के बाद यहां हड़कंप की स्थिति बन गयी। लोकायुक्त की कार्यवाही के दौरान कई ग्रामीणो ने लोकायुक्त की टीम से अन्य पटवारियों के विरुद्ध भी कड़ी कार्यवाही की मांग की। लोकायुक्त की कार्रवई के बाद एक बार फिर साबित हो गया है कि प्रदेश भर में बगैर लेने देने के सरकारी अधिकारी और कर्मचारी काम ही नहीं कर रहे हैं।
 
राशि खाते में देने के लिए मांगी घूस
कृपाल अहिरवार निवासी श्यामरा तहसील छतरपुर को हरिजन एक्ट के मामले में 75 हजार रुपए की राशि शासन से स्वीकृत हुई थी। लेकिन इस धनराशि को कृपाल के खाते में डालने के बदले आदिम जाति कल्याण विभाग छतरपुर में पदस्थ बाबू करंजू अहिरवारनौ हजार रुपए रिश्वत के रूप में मांग रहा था। कृपाल ने इसकी शिकायत लोकायुक्त पुलिस सागर से की। इसके बाद ाुरुवार को  लोकायुक्त पुलिस  ने आदिम जाति कल्याण विभाग पहुंचकर बाबू करंजू लाल को 9 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। इस कार्यवाही में निरीक्षक संतोष जामरा, आरक्षक राजेश सोनकर, प्रदीप खरे, आरक्षक सुरेन्द्र सिंह शामिल रहे।
बगैर पैसे के नहीं कर रहा था नामांतरण 
नौगांव तहसील के मवैया गांव किसान उत्तम सिंह तोमर जमीन के वरसाना एवं नामांतरण को लेकर कई दिनों से पटवारी बृजलाल रैकवार अलीपुरा क्षेत्र  के चक्कर काट रहे थे। लेकिन इस काम के बदले पटवारी उनसे 5000 रुपये मांग कर रहा था। फरियादी उत्तम गुरुवार को लगभग 2 बजे लोकायुक्त टीम के साथ ही तहसील कार्यालय पहुंचा। लोकायुक्त टीम ने उत्तम को कैमिकल लगे 5000 रुपये दिए। उत्तम ने वो रुपये जैसे ही तहसील कार्यालय के गेट परपटवारी को दिए लोकायुक्त की टीम ने पटवारी बृजलाल को धर दबोचा। रिश्वतखोर पटवारी को पकड़ थाने लाया गया। बाद में पटवारी ब्रजलाल को जमानत दे दी गई। 

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार