सामुदायिक भवनों की हालत जर्जर, दो करोड़ रुपए लेप्स

On Date : 17 July, 2017, 9:57 PM
0 Comments
Share |

खिड़की-दरवाजे टूटे, बिजली कटी, दीवारों के प्लास्टर गिरे
प्रदेश टुडे संवाददाता, इंदौर
नगर निगम द्वारा संचालित सामुदायिक भवनों की हालत जर्जर है। इनके खिड़की दरवाजे टूटे हुए है। बिजली कनेक्शन कटा हुआ है,जिससे यहां पर अंधेरा छाया हुआ है। इतना ही नहीं छत टूटी हुई है,दीवालों का प्लास्टर गिरा है। कुछ में लैट्रिन -बाथरूम या  तो है ही नहीं या फिर उसकी हालात इतनी खराब है कि उपयोग करने के लायक ही नहीं है। बात यहां पर यह नही है कि ंनिगम के पास पैसा नहीं है, या फिर इसकी कमी है। 
हर साल निगम के बजट में इन सामुदायिक भवनों के रखरखाव के लिए लाखों रुपए आवंटित किए जा जाते है। निगम ने वर्ष 2016-17 में सामुदायिक भवनों के रखरखाव के लिए दो करोड़ रूपए का बजट रखा था,लेकिन दुख की बात यह है कि उक्त बजट पूरा साल बीत जाने के बाद भी निगम इनके रखरखाव में खर्च नहीं किया। जिसकी वजह से राशि लेप्स हो गई। 
जानकारी के अनुसार, निगम के स्वामित्व में शहर भर में अलग-अलग स्थानों पर कुल मिलाकर पांच सामुदायिक भवन संचालित किए जा रहे हैं। जिनमें मालवा मिल कम्युनिटी हाल मालवा मिल चौराहा,वीर सावरकर नगर सामुदायिक भवन जनता कालोनी,नेहरू नगर सामुदायिक भवन नेहरू नगर, डा श्यामा प्रसाद मुखर्जी सामुदायिक भवन बापट चौराहा और डा जाकिर हुसैन कम्युनिटी हाल जूना रिसाला शामिल है।
मालवा मिल कम्युनिटी हाल
शहर के बीचों  स्थित यह कम्युनिटी हाल पचास साल पुराना है। वर्तमान में इसकी हालत बद से बदत्तर है। काफी दिनों से ड्रेनेज लाइन चौक है और सैप्टिंक टैंक जाम पड़ा है। दरवाजे तो टूटे ही है,चैनल गेट भी टूटा है। इतना ही नहीं किचन की फर्सी पूरी तरह से उखड़ गई है।
वीर सावरकर नगर सामुदायिक भवन
इसकी की हालत मालवा मिल कम्युनिटी हाल की तरह है। मुख्य दरवाजे,खिड़की टूटे पड़े है,जिससे चोरी होने की संभावना बनी रहती है। पिछले कई माह से नल कनेक्शन कटा हुआ है,जिससे पानी को किल्लत बनी रहती है।
ेनेहरू नगर सामुदायिक भवन
इस सामुदायिक भवन को तकरीबन एक साल पहले निगम ने हाउसिंग बोर्ड से ििलया है। अब इसे निगम संचालित कर रहा है। इसकी चदद फटी है। दीवारों का प्लास्टर खराब हो गया है। बाथरूम टूटे पड़े है। बिजली कनेक्शन नहीं है। खिड़की दरवाजे टूटे पडेÞ है।
डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी सामुदायिक भवन
इसके लेट्रिन बाथरूम जाम है। काफी समय से खिड़की दरवाजे टूटे है।नर्मदा की लाइन नही है। बोरिंग फंसी हुई है। लाइट की तारे कटी हुई है,कभी किसी को करंट लग सकता है।
डॉ. जाकिर हुसैन कम्युनिटी हाल
जालियां टूटी हुई है।  लेट्रिन - बाथरूम ठीक नहीं है। रखरखाव सही तरीके से नहीं हो रहा है्र। साफ-सफाई ठीक तरह से नहीं होती है। असामाजिक तत्वों का अप्रत्यक्ष रूप से कब्जा है। इसकी वजह से यहां पर बुकिंग नहंी होती है।
दो करोड़ रु. बिल का बकाया
नेहरू नगर सामुदायिक भवन का बिजली का बिल दो करोड़ रूपए बकाया है। ये बकाया तक का है जब यह सामुदायिक भवन मप्र हाउसिंग बोर्ड द्वारा संचालित किया जाता था। निगम ने 11 माह पहले ही इसे अपने कब्जे में लिया है। अब बिजली बकाया बिल जमा करने को लेकर दोनों विभाग में खींचतान चल रही है। एमपीईबी ने कई बार बकाय बिल जमा करने को लेकर विभाग को  नोटिस जारी किया है।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

मसाला ख़बरें

रूही सिंह ने सोशल मीडीया पर बिखेर अपने हुस्न के जलवे

मुंबई: फिल्म 'कैलेंडर गर्ल्स' से अपने करियर की शुरुआत करने वाली रूही सिंह इन दिनों अपनी हॉट इंस्टाग्राम...

जैकी श्रॉफ की बेटी ने फिर दिखाई बोल्ड अदाएं

मुंबई: बॉलीवुड अभिनेता जैकी श्रॉफ की बेटी कृष्णा श्रॉफ अपनी तस्वीरों की वजह से सोशल मीडिया चर्चा में...

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार