त्रेतायुगीन शनिदेव मंदिर पर उमड़ा जन सैलाब

On Date : 19 November, 2017, 5:52 PM
0 Comments
Share |

शनिचरी अमावस्या पर लाखों श्रद्धालु पहुंचे शनि धाम
प्रदेश टुडे संवाददाता, मुरैना
शनिचरी अमावस्या पर जिले के ऐंती ग्राम में स्थित त्रेतायुगीन प्राचीन शनि मंदिर पर आयोजित विशाल मेले में लाखों श्रद्घालुओं ने सुख-समृद्घि और शांति की प्राप्ति के लिए शनिदेव के दर्शन कर प्रार्थना की। मेले में जिला प्रशासन द्वारा पुख्ता इंतजाम किए गए थे, जिससे श्रद्घालुओं को दर्शन करने में किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं हुई। कलेक्टर भास्कर लक्षाकार व पुलिस अधीक्षक आदित्य प्रताप सिंह के निर्देशन में पुलिस के अलावा विभिन्न अधिकारी मेला स्थल पर उपस्थित रहकर व्यवस्थाओं पर नजर रखे रहे।


शनि मेले को लेकर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत सोनिया मीणा, अपर कलेक्टर एसके मिश्रा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनुराग सुजानिया, एसडीएम प्रदीप तोमर सहित समस्त अनुविभागीय अधिकारी, डिप्टी कलेक्टर, स्वास्थ्य, महिला एवं बाल विकास, खाद्य, नगर पालिका सहित अन्य विभागों के अधिकारी व कर्मचारी अपने-अपने कार्य के प्रति संवेदनशील नजर आए। उल्लेखनीय है कि शनिचरा के नाम से विख्यात यह मंदिर त्रेता युग का है, जहां श्रद्घालुओं द्वारा शनि पर्वत की 13 कोस की परिक्रमा लगाकर शनिदेव को प्रसन्न किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि महाराष्ट्र के प्रसिद्घ शनि शिगणापुर में प्रतिस्थापित शनिशिला भी सन् 1817 में इसी शनि पर्वत से ले जाई गई थी, जो खुले आकाश में एक विशाल चबूतरे पर स्थापित है।

चारों तरफ दिख रहे थे वस्त्र ही वस्त्र
लोगों का मानना है कि शनिदेव दर्शन के बाद वस्त्र व जूते-चप्पल आदि अर्पित करने से उन पर छाया शनिचर उतर जाता है। इसके चलते हजारों श्रद्धालुओं द्वारा वस्त्र व जूते-चप्पल आदि का दान किया गया। जिससे मंदिर के पिछवाड़े एवं चारों ओर फैले जंगल में कपड़े व जूते चप्पल नजर आ रहे थे।

प्रसाद की थालियां बिकीं महंगी
शनिदेव की पूजा-अर्चना के लिए मंदिर के बाहर पूजा की थाली सजाकर देने वालों के यहां लंबी-लंबी लाइन लगी हुई थीं। भीड़ को देखते हुए पूजा की थाली मुंह मांगे दामों पर दी जा रही थी। वहीं फूल-मालाएं भी काफी महंगी बिक रहीं थीं। मेले में विभिन्न प्रकार की दुकानें लगी हुईं थीं और सभी जगह भक्तों की भीड़ लगी दिख रही थी।
नाईयों की रही चांदी
शनि देव पर दर्शनों के लिए पहुंचे हजारों श्रद्धालुओं ने सिर के बाल व मूंछे मुड़वाकर दान दी गर्इं। इस दौरान शनि देव मंदिर के आसपास सैकड़ों की संख्या में नाई हाथों में उस्तरा लिए लोगों के बाल बनाते नजर आए। वहीं बाल मुड़वाने के लिए लोगों की लंबी कतारें लगी नजर आईं।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार