निजी कंपनियों से मुकाबला करने में हम सक्षम: OFB चेयरमैन

On Date : 01 December, 2017, 5:55 PM
0 Comments
Share |

प्रदेश टुडे से चर्चा में सुनील चौरसिया ने बतार्इं प्राथमिकताएं
प्रदेश टुडे संवाददाता,जबलपुर

रक्षा क्षेत्र में कूदी निजी व विदेशी कंपनियों से मुकाबला करने भारतीय आॅर्डनेंस फैक्टरियां सक्षम हैं। हमारा पूरा फोकस है कि हमारे उत्पादों की गुणवत्ता बेहतर हो जाए, साथ ही भारतीय सेना को उसकी मांग के तहत आधुनिक से आधुनिक गोला बारूद उपलब्ध कराए जाय। यह बात आॅर्डनेंस फैक्टरी बोर्ड (ओएफबी) कोलकत्ता के चेयरमैन का पदभार ग्रहण के बाद सुनील चौरसिया ने ‘प्रदेश टुडे’ से दूरभाष पर हुई चर्चा में कहीं।
आत्म निर्भरता के क्षेत्र में कदम
उन्होंने कहा कि अम आत्म निर्भरता के क्षेत्र में कदम बढ़ाएंगे। आॅर्डनेंस फैक्टरियां आत्म निर्भर बनें और कम लागत में अच्छे उत्पाद बनाएं इसके लिए रणनीति पर काम चल रहा है। नवागत ओएफबी चेरयमैन सुनील चौरसिया ने कहा कि मैं अपने कार्यकाल में केवल एक ही लक्ष्य लेकर चलूंगा कि आॅर्डनेंस फैक्टरियों में उच्च गुणवत्ता युक्त, कम लागत में आधुनिक से आधुनिक सैन्य गोला बारूद का उत्पादन हो। फैक्टरियों के वर्षो पुरानी मशीनिरी को बदला जा रहा है। आर्डनेंस फैक्टरियों में बनने वाले कई उत्पादों के नॉन कोर सूची में डाले जाने के बाद उत्पन्न हुई परिस्थितियों से उबरने रणनीति बनायी जायगी।
बंद नहीं होगी कोई निर्माणी
उन्होंने भरोसा दिलाया कि कोई भी आयुध निर्माणी बंद नहीं होगी। आयुध निर्माणियों को एक - दूसरे के सहयोगी के तौर पर खड़ा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रत्येक चुनौती एक मौका प्रदान करती है। बदले हुए रक्षा उत्पादन परिवेष में अधिकतम नतीजे प्राप्त करने के लिए आयुध निर्माणी बोर्ड ने अनुसंधान और विकास पर विशेष बल लगाया है। गौरतलब है कि ओएफबी चेयरमैन का जबलपुर से गहरा नाता है। यह पहला मौका है जब आदिवासी बहुल्य मंडला के छोटे से गांव हृदय नगर में जन्में सुनील चौरसिया ओएफबी के चेयरमैन के पद तक पहुंचे हैं। 

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार