ओटावाः कनाडा ने अमरीका  द्वारा आयातित स्टील व एल्यूमिनियम उत्पादों पर  आयात शुल्क लगाने के फैसले के खिलाफ विश्व व्यापार संगठन (WTO ) में शिकायत दर्ज कराई है। कनाडा की विदेश मंत्री क्रिस्टिया फ्रीलैंड ने  कहा कि अमरीका ने देश की राष्ट्रीय सुरक्षा अक्षुण्ण रखने के झूठे बहाने पर ये एकतरफा शुल्क लगाए हैं जो  डब्ल्यूटीओ  की गई प्रतिबद्धताओं के खिलाफ हैं।

फ्रीलैंड ने कहा कि WTO  में अमरीका के खिलाफ गई इस शिकायत में वह यूरोपीय संघ (ईयू) से भी सहयोग करेगा। ईयू ने भी अमरीका के इस फैसले को WTO  में चुनौती दी है। कनाडा ने नॉर्थ अमरीकन फ्री ट्रेड एग्रीमेंट (नाफ्टा) के अध्याय-20 के कारोबारी विवाद तंत्र के तहत अमरीका द्वारा उठाए कदमों की समीक्षा का भी आग्रह किया। फ्रीलैंड का कहना था कि कनाडा नॉर्थ अमरीकन एयरोस्पेस डिफेंस कमांड (नोराड) और नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी ऑर्गेनाइजेशन (नाटो) के तहत अमरीका का प्रमुख सहयोगी देश है।

वह अमरीकी स्टील का सबसे बड़ा आयातक भी है। ऐसे में कनाडा से आयातित स्टील और एल्यूमिनियम पर अमरीका द्वारा शुल्क लगाना पूरी तरह से अस्वीकार्य है। गौरतलब है कि बीते गुरुवार को अमरीका ने कनाडा, मैक्सिको और ईयू को स्टील व एल्यूमिनियम पर लगाए अपने आयात शुल्क पर छूट के दायरे से बाहर कर दिया था। इस बीच, यूरोपीय संघ ने अमरीका के स्टील व एल्यूमिनियम उत्पाद पर आयात शुल्क के खिलाफ पहली बार प्रतिक्रियात्मक कार्रवाई करते हुए अमरीकी उत्पादों पर भी आयात शुल्क लगा दिया है।

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने भी अमरीका के इस फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने कहा कि वह इस फैसले से बेहद निराश हैं। उन्होंने ब्रिटेन और पूरे यूरोपीय संघ को अमरीका के स्टील व एल्यूमिनियम पर आयात शुल्क के दायरे से हमेशा के लिए बाहर रखने की जरूरत बताई। दूसरी तरफ अमरीका के वाणिज्य मंत्री विल्बर रॉस चीन से कारोबारी गतिरोध खत्म करने संबंधी वार्ता के लिए शनिवार को बीजिंग पहुंच गए। इस महीने की शुरुआत में कारोबारी मसलों पर बातचीत सकारात्मक रहने के बावजूद अमरीका चीन से आयातित उत्पादों पर आयात शुल्क लगाने के अपने इरादे पर आगे बढ़ रहा है।