मकुर्डी: ईसाई किसानों और घुमंतू चरवाहों के बीच झड़पों में फंसे नाइजीरिया के बेनुए प्रांत में दो अलग - अलग हमलों में कम से कम 13 लोगों की मौत हो गई. क्वांदे स्थानीय सरकार परिषद के प्रमुख तेर्दो न्योर केंटी के अनुसार , रात को हुए पहले हमले में बंदूकधारी सीडोघ गांव में घुसे और उन्होंने महिलाओं तथा बच्चों समेत सात लोगों की हत्या कर दी. उन्होंने एक महिला को भी बंधक बना लिया. ऐसा माना जा रहा है कि बंदूकधारी चारवाहे थे.

सशस्त्र चरवाहे आधी रात को गांव में उस समय घुसे जब लोग सो रहे थे. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे मालूम चला है कि उन्होंने चारों तरफ से अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी.’’ उन्होंने कहा, ‘‘सात लोग मारे गए, छह अन्य घायल हो गए जबकि चरवाहे कई मकानों और खेतों को आग लगाने के बाद एक महिला को अगवा करके ले गए.’’ दूसरी घटना में ओटुक्पो शहर में सोमवार (4 जून) को सामुदायिक हिंसा में छह लोगों की मौत हो गई.

इससे पहले बीते 2 जून को नाइजीरिया के उत्तर-पश्चिमी प्रांत जामफरा में मवेशी चोरों ने एक गांव में हमला करके कम से कम 15 लोगों की हत्या कर दी थी. द एसोसिएटेड प्रेस को मोहम्मद शेहू ने बताया कि यह घटना जाकुना गांव की है. ऐसा प्रतीत होता है कि यह हमला प्रतिशोध के लिए किया गया था. शेहू ने बताया कि इन मवेशी चोरों ने दिन में भी हमला किया जिसे नाकाम कर दिया गया था लेकिन बाद में उन्होंने फिर से हमला किया