बीजिंगः चीन ने मौसम की सटीक भविष्‍यवाणी करने वाले नए सैटेलाइट को सफलता पूर्वक लॉन्‍च किया है। चीन का यह सैटेलाइट पाकिस्‍तान समेत महत्‍वाकांक्षी बेल्‍ट एंड रोड इनीशिएटिव (BRI) से जुड़े देशों को मुफ्त में मौसम विज्ञान से संबंधित सेवाएं देगा। चीन का BRI प्रोजैक्‍ट रेल नैटवर्क, मैरिटाइम और सड़क नैटवर्क के जरिए एशिया को यूरोप और अफ्रीका से जोड़ता है। इस प्रोजैक्‍ट को पुराने समय में सिल्‍क रोड ट्र‍ेडिंग रूट का जवाब माना जा रहा है। बीआरआई को पहले वन बेल्‍ट वन रोड (OBOR) के नाम से भी जानते थे। यह प्रोजैक्‍ट चीन और भारत के बीच बड़े टकराव की वजह भी है क्‍योंकि इसका एक हिस्‍सा PoK से होकर गुजरता है।

 चीन की आधिकारिक न्‍यूज एजेंसी शिन्‍हुआ के मुताबिक इस सैटेलाइट का नाम फेंगयून-2 एच है और इसे मंगलवार रात को जीछांग लॉन्‍च सेंटर से लॉन्‍च कया गया है। यह सेंटर चीन के साउथ वेस्‍ट सिचुआन प्रांत में हैं। जानकारी के मुताबिक सैटेलाइट मुफ्त में BRI में शामिल देशों को डाटा मुहैया कराएगा। BRI  50 बिलियन डॉलर वाले चीन-पाकिस्‍तान इकोनॉमिक कॉरीडोर (CPEC) का प्रोजैक्‍ट है।

चीन के वाणिज्‍य मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि चीन ने इस वर्ष के पहले चार माह के अंदर ही 390 बिलियन डॉलर की डील्‍स, BRI  में शामिल देशों के साथ की है। चीन का कहना है कि पांच वर्षों के अंदर BRI में 100 से ज्‍यादा देश और इंटरनेशनल ऑर्गनाइजेशंस शामिल होंगी। बीआरआई प्रोजैक्‍ट चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग के काफी करीब है। वहीं आलोचकों की मानें तो BRI की वजह से एक बड़ी रकम चीन के बाहर जा रही है और भ्रष्‍टाचार पनप रहा है। वहीं छोटे देश इस प्रोजैक्‍ट की वजह से कर्ज की समस्‍या से जूझ रहे हैं।