इंदौर : अमेरिका में रहने वाले डॉक्टर राजेश कडक्या और डॉक्टर दर्शना कडक्या बुधवार सुबह इंदौर पहुंचे। डॉक्टर दंपति अपनी कार से 44 देशों की यात्रा पर निकले हैं और अब तक 18 देशों की यात्रा कर चुके हैं। अब वे भारत आए हैं, यहां वे कई शहरों में घूमेंगे। डॉक्टर दम्पति बुधवार सुबह इंदौर पहुंची तो, यहां कि सफाई व्यवस्था देख दंग रह गए। उन्होंने कहा कि इंदौर वास्तव में सफाई में नंबर वन है। यहां के लोग सफाई को लेकर काफी जागरूक हैं।

विभिन्न देशों को देंगे शांति और एकता का संदेश
अमेरिका में रहने वाले डॉक्टर राजेश कडक्या और डॉक्टर दर्शना कडक्या अमेरिका में अपना खुद का क्लिनिक चलाते हैं। कुछ समय पहले उन्हें विश्वभर में होने वाली हिंसक घटनाओं को लेकर ख्याल आया कि क्यों ना अलग-अलग देशों में घूमकर शांति और एकता का संदेश दिए जाए। जिसके लिए वे विभिन्न देशों का दौरा कर रहे हैं।

डॉ. दंपति अपनी यात्रा एक कार से कर रहे हैं। उनकी यह कार विशेष कार तैयार की गई है। इसे बनाने में ढाई साल और 60 लाख रुपए से ज्यादा खर्च आया। यह विशेष कार इस तरह तैयार की गई है कि इसे पानी में भी चलाया जा सकता है। साथ ही गाड़ी के सभी पार्ट्स भी साथ में लेकर निकले हैं ताकि गाड़ी खराब होने की दशा में यात्रा में कोई परेशानी ना आए।

28 मार्च 2018 से शुरू की थी यात्रा
इसी कार को लेकर 28 मार्च 2018 को राजेश कडक्या ने अपनी पत्नी के साथ अमेरिका से यात्रा शुरू की। दोनों दम्पति अब तक कि यात्रा में 18 देश घूम चुके हैं। इस दौरान वे चीन, रूस, पेरिस, अमेरिका, कजकिस्तान, मंगोलिया, नेपाल, भारत समेत अन्य देशों में घूम चुके है। दोनों को 44 देशों की यात्रा करनी है जिसमें तीन महीने से अधिक समय लगेगा। दोनों का अब तक एक करोड़ रुपए से अधिक खर्च हो चुका है।

'44 देशों मे एक संदेश पंहुचाना लक्ष्य'
डॉक्टर राजेश कडक्या और डॉक्टर दर्शना कडक्या का कहना है कि उनकी यात्रा का उद्देश्य शांति और एकता का संदेश देना है। उनका कहना है कि हम जब तक किसी से मिलते नहीं है तब तक ही वह दुश्मन होता है और जब हम उससे मिल लेते हैं तो वो हमारा दोस्त बन जाता है। इसलिए उन्होंने 44 देशों की यात्रा कर यह संदेश देने की कोशिश की है।

मूलत: भारत की रहने वाली है डॉ. दंपति
डॉक्टर दम्पति मूलतः भारत के रहने वाली है। लेकिन कई सालों से वह अमेरिका में रह रहे हैं। उनका कहना है कि उनका देश के प्रति प्रेम तब झलक उठा, जब वे भारत के बार्डर पर आए और बोर्ड पर लिखा देखा ‘भारत मे आपका स्वागत है’। तब दोनों की आखों में आंसू थे। डॉक्टर दम्पति अपने पुश्तेनी गांव भी गए जहां वे अस्पताल और अन्य सुविधाओं के लिए बड़ी राशि दान की है।

अब तक करना पड़ा इन परेशानियों का सामना
डॉक्टर दंपति ने बताया कि यात्रा के दौरान उन्हें कुछ देशों में काफी परेशानियों का सामना भी करना पड़ा। क्योंकि ट्रैफिक के नियम अलग-अलग देशों में अलग-अलग हैं। कहीं राइट हेंड ड्राइविंग है तो कही लेफ्ट हेंड। इस दौरान उनकी पत्नी ने उनका बखूबी साथ निभाया।

मीडिया का किया धन्यवाद
इंदौर यात्रा के दौरान डॉक्टर दम्पति काफी खुश नजर आए। इस दौरान उन्होंने इंदौरी मीडिया के सकरात्मक सहयोग को लेकर धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि इंदौरी मीडिया ने उन्हें जो सहयोग दिया है उसे वे कभी नहीं भूल सकते है। उन्होंने कहा कि  18 देशों की यात्रा के दौरान भी उन्हें इस तरह का मीडिया का सहयोग नहीं मिला। इसको लेकर वे जल्द सोशल मीडिया पर भी लिखेंगे। साथ ही अमेरिका से भी वे लगातार संपर्क में रहेंगे।