नई दिल्ली: पिछले कई सालों में अमरनाथ यात्रा पर आतंकी हमलों से सबक लेते हुए इस साल केंद्र सरकार ने अमरनाथ यात्रियों की सुरक्षा के लिए पहले से बेहतर तकनीक और अधिक सैनिक तैनात करने का फैसला किया है। यात्रा की निगरानी के लिए ड्रोन कैमरों का इस्तेमाल भी किया जाएगा। यात्रा मार्ग के संवेदनशील क्षेत्रों से होकर गुजरने का अधिकतम समय शाम पांच बजे तक रहेगा। इसके बाद पहुंचने वाले यात्रियों को वहीं रोक दिया जाएगा, उन्हें अगले दिन सुबह से यात्रा प्रारंभ करना होगी। यह निर्णय अमरनाथ श्राइन बोर्ड और जम्मू-कश्मीर पुलिस के बीच हाल ही में हुई बैठक में लिया गया।

गौरतलब है कि जम्मु-कश्मीर में स्थित पवित्र अमरनाथ यात्रा की 60 दिन की यात्रा आने वाले 28 जून से शूरु हो जाएगी। पिछले साल के मुकाबले इस बार अमरनाथ यात्रा 20 दिन ज्यादा चलेगी। धार्मिक यात्रा पर जाने के तैयारी कर रहे लोग 1 मार्च से देश भर के 32 राज्यों के 437 बैंकों के जरिए पंजीकरण करवा सकेंगे। बता दें कि पिछले सालों की तरह इस बार भी पंजीकरण के लिए मेडिकल फिटनेस प्रमाण पत्र बनना अनिवार्य होगा।