चीन : भारत और पाकिस्तान ने पहली बार पूर्ण सदस्य के रूप में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन में हिस्सा लिया. चीन के चिंगदाओ में रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सम्मेलन के सत्र को संबोधित किया और आतंकवाद का मुद्दा भी उठाया.

इस दौरान एससीओ सदस्य देशों के बीच समझौतों पर हस्ताक्षर हुए. जिसके बाद मंच पर एक दिलचस्प तस्वीर नजर आई. दरअसल, जिस वक्त एससीओ के मंच पर पीएम नरेंद्र मोदी चीन के राष्ट्रपति से मिल रहे थे, उसी दौरान वहां पीछे से पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व कर रहे राष्ट्रपति ममनून हुसैन पहुंच गए. जैसे ही ममनून हुसैन पीएम मोदी के करीब पहुंचे, वह भी उनकी तरफ बढ़ गए.

ममनून हुसैन ने मोदी की तरफ बढ़ाया हाथ
पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने पीएम मोदी के पास पहुंचते ही उनकी तरफ हाथ आगे बढ़ाया. पीएम मोदी ने भी उनकी इस पहल को पूरा सम्मान दिया और तुरंत अपना हाथ आगे कर उनका अभिवादन स्वीकार किया. सिर्फ इतना ही नहीं, पीएम मोदी ममनून हुसैन के थोड़ा करीब गए और उनसे कुछ कहा.

स्टेज पर पीएम मोदी ममनून हुसैन के आगे-आगे चलने लगे. दोनों के बीच बेहद कम फासला था और दो कदम चलते ही पीएम मोदी पीछे पलट गए. पीछे से आ रहे ममनून हुसैन के लिए पीएम रुके और उन्होंने फिर उनसे कुछ बात की.

हालांकि, यह बातचीत बहुत ही छोटी नजर आ रही है. जिसमें पीएम मोदी पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममनून हुसैन से कुछ कहते दिख रहे हैं, जबकि ममनून हुसैन के चेहरे पर हल्की मुस्कान दिखाई दे रही है. इसके बाद पीएम मोदी आगे बढ़ जाते हैं और ममनून हुसैन भी पीएम मोदी की पीठ पर हाथ रखकर आगे बढ़ जाते हैं. इस बीच मंच पर मौजूद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और दूसरे नेता सामने आ जाते हैं और ममनून हुसैन उनसे मुलाकात करने लगते हैं.

10 सेकेंड में दो बार बात
पीएम मोदी और पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममनून हुसैन के बीच महज 10 सेकंड की बातचीत हुई. जिसमें पीएम मोदी ही हुसैन से बातचीत करते दिखे. हालांकि, ममनून हुसैन ने पहले मोदी की तरफ हाथ बढ़ाया था, जिसके बाद पीएम मोदी ने उनके प्रति गर्मजोशी दिखाई.

बता दें कि दोनों देश पहली बार पूर्ण सदस्य के रूप में इस मंच पर जमा हुए हैं. हालांकि, इस बार दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय बातचीत नहीं होनी है, लेकिन मंच पर पीएम मोदी और ममनून हुसैन के बीच चंद लम्हों की बातचीत भी काफी मायने रखती थी.