इंदौर: मध्यप्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा है कि देश में पिछले चार वर्षों में विभिन्न जन-कल्याणकारी योजनाओं से क्रांतिकारी बदलाव आया है। पटेल रविवार को इंदौर में प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना, उज्जवला योजना, जन-धन योजना, मुद्रा योजना और आवास योजना के हितग्राहियों से रूबरू होकर चर्चा कर रही थीं।

उन्होंने कहा कि नागरिक केन्द्र और राज्य सरकार की योजनाओं का अधिकाधिक लाभ उठाएं। उन्होंने कहा कि उज्जवला योजना से जहां एक ओर गृहस्थ महिलाओं को चूल्हे के धुएं से मुक्ति मिली है, वहीं दूसरी ओर उनके परिवारजनों को जल्दी और गर्म खाना भी मिल रहा है। महिलाओं को अब धीरे-धीरे आंख और फेफड़े की बीमारी से भी मुक्ति मिल रही है।

राज्यपाल ने जन-धन योजना के संबंध में हितग्राहियों से चर्चा करते हुए कहा कि कोई भी गरीब व्यक्ति अपनी छोटी सी पूंजी बैंक में रखकर न केवल ब्याज प्राप्त कर सकता है बल्कि खाते में पेंशन, छात्रवृत्ति, गैस सब्सिडी आदि की राशि भी आसानी से सीधे आ रही है।

प्रधानमंत्री आवास योजना के साथ-साथ बिजली कनेक्शन, नल कनेक्शन, शौचालय, गैस कनेक्शन, संपर्क मार्ग आदि का लाभ भी हितग्राहियों को मिल रहा है। प्रदेश और देश में यह सब पहली बार हो रहा है। पटेल ने कहा कि इंदौर जिले में 10 विश्वविद्यालय हैं और लगभग 550 टीबी के मरीज हैं। इन विश्वविद्यालयों के प्रोफेसर इसी माह इन टीबी के मरीजों को गोद लें और छह माह में इन्हें टीबी से मुक्त करायें। यह एक अनुकरणीय पहल होगी।