नई दिल्ली : 251 रुपए में फ्रीडम मोबाइल बेचने का दावा करने वाले रिंगिंग बेल्स के डायरेक्टर मोहित गोयल को पुलिस ने रविवार रात दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है। मोहित के कुद साथियों को भी पकड़ा गया है। पनी का मुद्दा संसद में उठने के बाद पुलिस और प्रवर्तन निदेशालय ने जांच शुरू की थी। जिसके बाद रिंगिंग बेल्स के खिलाफ पोंजी स्कैम और धोखाधड़ी की शिकायतें आईं। गाजियाबाद पुलिस ने भी पिछले साल फरवरी में गोयल को धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार किया था।

मोहित पर आरोप है कि उसने दुनिया के सबसे सस्ते फोन की आड़ में लाखों लोगों से ठगी की थी। गाजियाबाद के एक डीलर की शिकायत पर पुलिस ने मोहित गोयल के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया था। डीलर ने शिकायत में बताया था कि रिंगिंग बेल्स ने नवंबर, 2015 में फ्रीडम 251 के डिस्ट्रीब्यूशन के लिए उन्हें अप्रोच किया। इसके बाद कई मौकों पर कंपनी को 30 लाख रुपए दिए पर सिर्फ 13 लाख का ही माल मिला। बकाया रकम मांगने पर उन्हें जान से मारने की धमकियां दी गईं।

नोएडा की कंपनी रिगिंग बेल्स तब सुर्खियों में आई थी जब उसकी ओर से वेबसाइट पर फरवरी 2016 में सिर्फ 251 रुपए में मोबाइल बुक कराए जा रहे थे। कंपनी ने मोबाइल का ब्लू प्रिंट तैयार किया जिसमें उनकी मदद अमेरिका से टेक्नौक्रेट फिजिक्स की पढ़ाई कर चुके अशोक चड्ढा ने की। कंपनी ने 251 रुपए वाले 2 लाख फोन डिलिवर करने का दावा किया था। 7 करोड़ लोगों ने दुनिया के सबसे सस्‍ते 3G फोन के लिए रजिस्ट्रेशन कराया। जिनमें से करीब 30,000 ने फोन बुक किया था जिसके बाद बुकिंग बंद कर दी गई।