जम्मू : आतंकी अमरनाथ यात्रा को निशाने पर लेने की फिराक में हैं। जिसके चलते जम्मू-कश्मीर सरकार ने अमरनाथ यात्रा के लिए 22 हजार अतिरिक्त जवानों की मांग की है। वार्षिक अमरनाथ यात्रा 28 जून से शुरू हो रही है।  अधिकारियों ने आज बताया कि पूरे यात्रा मार्ग में सुरक्षा के लिए तीर्थ यात्रियों की उपग्रहों के जरिए निगरानी, जैमर लगाने, सी.सी.टी.वी. कैमरे और बुलेटप्रूफ बंकर, खोजी कुत्तों की तैनाती जैसे उपाय किए जाएंगे।

इस मामले से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि इस कड़ी सुरक्षा व्यवस्था को लागू करने के लिए सेना, अद्र्धसैनिक बलों और जम्मू-कश्मीर पुलिस को शामिल किया जाएगा। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने यात्रा मार्ग में तैनाती के लिए अद्र्धसैनिक बलों की अतिरिक्त 225 कंपनियों की मांग की है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पिछले सप्ताह जम्मू-कश्मीर की यात्रा के दौरान अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया था।

इस दौरान गृहमंत्री को बताया गया था कि तीर्थयात्रा को सुचारू रूप से चलाने के लिए कई चरण की सुरक्षा व्यवस्था बनाई गई है। विभिन्न सुरक्षा एजैंसियों के अनुमान के मुताबिक कश्मीर घाटी में करीब 200 आतंकवादी सक्रिय हैं और हालिया ट्रेंड दिखाते हैं कि आतंकवादी हमला करने में बेलगाम हो गए हैं।