भोपाल : चुनावी सालों में सब मुद्दों को छोड़ नेता औऱ पार्टियां किसानों पर फोकस करने में लगे हुए है। एक तरफ कांग्रेस सत्ता में आते ही पूरा कर्ज माफ करने की बात कर रही है , वही दूसरी तरफ प्रदेश के मुखिया शिवराज किसानों को सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं और घोषणाओं के बारे मे बता रहे है। इतना ही नही अब शिवराज किसानों से कह रहे है कि किसानों छोड़ कृषि आधारित उद्योग लगाए । मुख्यमंत्री शिवराज द्वारा किसानों पर दिए गए इस बयान को लेकर प्रदेशाध्क्ष कमलनाथ ने सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि एक तरफ पूरी भाजपा 2022  में किसानों की आय दुगुनी करने की बात करती है वही दूसरी तरफ मुख्यमंत्री शिवराज किसानों को खेती छोड़ कृषि आधारित उद्योग लगाने की बात कह रहे है।

दरअसल, रविवार को मुख्यमंत्री शिवराज जबलपुर में आयोजित किसान महासम्मेलन में किसानों को संबोधित करने पहुंचे थे। जहां उन्होंने कहा था कि किसान परिवार के सभी लोग खेती न करें, कृषि आधारित उद्योग स्थापित करे। इसके लिए सरकार किसानों को 10 लाख से लेकर 2 करोड़ रुपए का कर्ज की गारंटी एवं ब्याज दे रही है। जिसको लेकर कमलनाथ ने पलटवार किया है। उन्होंने ट्वीटर के माध्यम से शिवराज सरकार पर हमला बोला है।उन्होंने कहा है कि एक तरफ़ पूरी भाजपा खेती को लाभ का धंधा बनाने का 2022 तक वादा कर रही है , वही कृषि प्रधान प्रदेश के किसान पुत्र  मुखिया हमेशा की तरह फिर कह रहे है कि किसान खेती छोड़ , उद्योग लगाये और दूसरी तरफ़ कहते है कि जो मैंने किया , वो किसी ने नहीं किया।

शिवराज की ब्रांडिंग पर होने वाले खर्च पर भी उठाए सवाल

कमलनाथ ने सीएम शिवराज की ब्रॉडिंग पर होने वाले खर्च पर भी सवाल उठाए है।उन्होंने कहा है कि 200 करोड़ रुपये प्रतिमाह शिवराज जी की ब्रांडिंग व प्रचार पर खर्च करती है सरकार । यदि यह पैसा मेरे मध्यप्रदेश के किसानों और युवाओ के लिए खर्च होते तो उनकी स्तिथि में सुधार लाया जा सकता है ।