नई दिल्लीः रेल मंत्री पीयूष गोयल ने सुरक्षा के साथ खर्च कम करने और सेवा सुधार पर रेलवे का फोकस होने की बात कहते हुए आज संकेत दिए कि ट्रेनों के परिचालन में विशेषकर उत्तर भारत में होने वाली देरी से फिलहाल निजात मिलने की उम्मीद नहीं है। गोयल ने कहा कि रेलवे का प्रमुख फोकस इस समय सुरक्षा पर है। इसके लिए हर स्टेशन पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं और कोशिश है कि ये अधिक से अधिक ट्रेनों के कोचों में भी लगाए जाएं। सुरक्षा बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी का भी इस्तेमाल किया जा रहा है।

रेल लाइनों की मरम्मत का काम हो रहा तेजी से
ट्रेनों के देरी से पहुंचने के बारे में उन्होंने कहा कि सुरक्षा से संबंधित काम का बैकलॉग मौजूदा सरकार को विरासत में मिला है और उसे पूरा करने के कारण ट्रेनों के परिचालन में देरी देखी जा रही है। उन्होंने कहा कि रेलवे सुरक्षा कोष से रेल लाइनों की मरम्मत का काम तेजी से हो रहा है। ट्रेनों का परिचालन समय पर करने और सिग्नल व्यवस्था को सुधारने के लिए भी प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल किया जाएगा। ट्रेनों की देरी के बारे में पूछे गए एक अन्य प्रश्न के उत्तर में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने कहा कि रेलवे का फोकस सुरक्षा पर है। पिछले 18 साल में ट्रेनों की संख्या लगभग दोगुना हो गई है, लेकिन इस दौरान मूलभूत ढांचों की मरम्मत एवं रखरखाव का काम नहीं किया गया।

मौजूदा सरकार में निवेश दोगुणा होने की उम्मीद
गोयल ने कहा कि पिछली सरकारों के समय में ट्रेनों की बढ़ती संख्या के हिसाब से बुनियादी ढांचों के लिए पैसा नहीं दिया गया जिससे इन ढांचों पर बोझ बढ़ा और उनकी मरम्मत का काम पीछे रह गया। उन्होंने कहा कि वर्ष 2009 से 2014 के दौरान रेलवे में किए गए पूंजीगत निवेश की तुलना में मौजूदा सरकार के कार्यकाल में वर्ष 2019 तक यह निवेश ढाई गुणा होने की उम्मीद है।

अब साझा सेवा केंद्रों से संभव होगी रेल टिकट बुकिंग
अगले कुछ महीनों में साझा सेवा केंद्रों (सीएससी) के जरिए रेल टिकट बुक की जा सकेगी जो ग्रामीण इलकों में ऑनलाइन सरकारी सेवाओं के लिए बनाए गए हैं । रेल मंत्रालय तथा आईटी मंत्रालय ने इसके लिए एक समझौते पर आज हस्ताक्षर किए। गोयल ने बताया कि अब सभी 2.9 लाख सीएसी को प्रौद्योगिकी के जरिए जोड़ते हुए उन्हें रेल टिकट बुकिंग में सक्षम बनाया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘इस समय लगभग 40,000 सीएससी कनेक्ट हैं। अगले 8-9 महीने में सभी सीएससी में टिकट बुकिंग की सुविधा मिल जाएगी।’ इस आशय का समझौता आईआरसीटीसी व सीएससी इंडिया के बीच किया गया है। सीएससी इंडिया देश भर में ग्रामीण इलाकों में सरकारी सेवाओं के जिए साझा सेवा केंद्र (सीएससी) चलाती है।