बेंगलुरु: कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने मंगलवार को कहा कि मंत्री पद नहीं मिलने को लेकर कांग्रेस के अंदर कोई असंतोष नहीं है और विश्वास प्रकट किया कि पार्टी का कोई भी विधायक बीजेपी से हाथ नहीं मिलाएगा. कांग्रेस - जेडीएस गठबंधन सरकार के पांच साल पूरा करने के प्रति आश्वस्त कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया ने कहा , ‘ ऐसा कोई नहीं है जो असंतुष्ट है , अब सभी लोग संतुष्ट हैं. ’

सिद्धारमैया ने कहा कि उन्होने एम बी पाटिल समेत मंत्री नहीं बनने से कथित रुप से नाखुश हर व्यक्ति (विधायक) से बात की है और ‘ बीजेपी विधायकों को लालच देने की कितनी ही कोशिश क्यों न कर लें, कोई (उसके साथ) नहीं जाएगा.’

दरअसल 6 जून के मंत्रिमंडल विस्तार में जगह नहीं मिलने से नवनिर्वाचित कांग्रेस विधायकों के बीच असंतोष बढ़ रहा था. कुछ ने खुलकर असंतोष प्रकट किया था और अलग से बैठकें की थी. लेकिन पिछले दो दिनों में उन्हें शांत करने की पार्टी नेतृत्व की कोशिश रंग लाई है और माहौल शांत हुआ.

प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष बी एस येदियुरप्पा के इस बयान पर कि कई कांग्रेस नेता उनकी पार्टी में शामिल होने को इच्छुक हैं , सिद्धारमैया ने कहा , ‘ उन्हें खुद ही पता नहीं है कि वह क्या बोल रहे हैं.’ नए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के विषय पर पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने इस संबंध में राहुल गांधी से बात नहीं की है , यहां काम पूरा करने के बाद वह इस संबंध में नयी दिल्ली जायेंगे.

प्रशासनिक तंत्र में व्यापक पैमाने पर भ्रष्टाचार होने के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के बयान पर सिद्धारमैया ने कहा , ‘मुझे पता नहीं कि उन्होंने कहां भ्रष्टाचार देखा है , यदि उन्होंने देखा है तो वह उसे रोकें.’ कुमारस्वामी ने सोमवार को कहा था कि तबादले के साथ भ्रष्टाचार शुरु होता है , इस काम के लिए विधानसभा के गलियारे में बिचौलिये हैं जो दावा करते हैं कि मुख्यमंत्री और मंत्री उनके साथ हैं.