खुदकुशी जुर्म भी है, सब्र की तौहीन भी है, इस लिए इश्क में मर-मर के जिया जाता है। कहा जाता था वो अंतरयामी थे। कई लोगों को चमत्कार दिखा देते थे। उनके मुरीद उन्हें राष्ट्र संत कहते थे। फिर ये क्या हुआ भय्यूजी खुद के घर में ही हार गए। अखबार ने इसकी तीन वजहें अखबार ने बताई हैं। कुलमिलाके घर की दो महिलाएं इस हादसे के पीछे नजर आती हैं। उनके बकरी पालने से लेके संत बनने का सफर और लग्जरी लाइफ स्टाइल का भी यहां जिक्र है। सिंगापुर में ट्रंप औरा किम की तारीखी मुलाकात वाली खबर भी यहां उम्दा सेट हो गई। सिटी प्लानर सावलकर साब को निगम परिषद ने मूल विभाग में भेज दिया। लेकिन ऐसे कई अफसर हैं जिनकी वजह से प्रोजेक्ट ठप पड़े हैं। सरकारी अस्पतालों में रैबीज के इंजेक्शन नहीं होने वाली खबर सवाल खड़े करती है।