भिलाई: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नया रायपुर में देश के पहले इंट्रीग्रेटड कमांड सेंटर का लोकार्पण किया। यह देश का इकलौता और उच्च स्तरीय तकनीक पर काम करने वाला केन्द्र है। मोदी विमानतल से सीधे नया रायपुर पहुंचे और वहां पर एकीकृत कमाण्ड एवं नियंत्रण केन्द्र का लोकार्पण किया।इस मौके पर मुख्यमंत्री डा.रमन सिंह, केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री हरजीत पुरी,केन्द्रीय संचार मंत्री मनोज सिन्हा के साथ ही केन्द्र एवं राज्य सरकार के आला अधिकारी मौजूद थे। मोदी का यहां पहुंचने पर स्कूली बच्चों ने स्वागत किया। इस दौरान मोदी ने बच्चों से बात भी की।

इंट्रीग्रेटड कमांड सेंटर के फायदे
प्रधानमंत्री के समक्ष इस केन्द्र की कार्यप्रणाली का उनके समक्ष प्रस्तुतिकरण भी किया गया। यह केन्द्र नया रायपुर विकास प्राधिकरण द्वारा प्रधानमंत्री की स्मार्ट सिटी की परिकल्पना के अनुरुप स्थापित किया गया है।

एकीकृत कमाण्ड एवं नियंत्रण केन्द्र से नया रायपुर शहर में इस एक ही स्थान से ई-गवर्नेंस, ट्रैफिक मैनेजमेंट, सुरक्षा, बिल्डिंग मैनेजमेंट सिस्टम और यूटीलिटी मैनेजमेंट जैसे कार्य नियंत्रित किए जाएंगे।
यह पूरी तरह से स्वचालित केन्द्र है।
यह केन्द्र जी.आई.एस. प्लेट फॉर्म की सहायता से संचालित किया जाएगा।   
नया रायपुर स्मार्ट सिटी के नागरिक इस केन्द्र में बिजली, पानी आदि किसी भी प्रकार की असुविधा होने पर अपनी शिकायत वहां के हेल्प लाइन नंबरों पर दर्ज करवा सकते है।
इस केन्द्र के माध्यम से नया रायपुर शहर में आने और बाहर जाने वाले वाहनों के नंबर, वाहन की गति और उसकी लोकेशन की जानकारी मिलेगी।
इससे यातायात को सुचारू बनाना आसान होगा।
इस केन्द्र से नया रायपुर शहर के भवनों में बिजली और पानी के वितरण, ए.सी. सिस्टम के नियंत्रण और लिफ्ट परिचालन को नियंत्रित किया जा सकेगा।
इस सिस्टम के तहत नया रायपुर शहर में उच्च गुणवत्ता के सौ से अधिक कैमरे लगाए गए हैं।
इस केन्द्र से विभिन्न नागरिक सेवाएं और स्वीकृतियां ऑनलाइन प्रदान करने में आसानी होगी।  

 

2 महीने में दूसरी बार छत्तीसगढ़ पहुंचे मोदी
मोदी दो माह के भीतर दूसरी बार छत्तीसगढ़ के दौरे पर आए है। वह आज ही भिलाई इस्पात संयंत्र के 18847 करोड़ की लागत से हुए आधुनिकीकरण एवं विस्तारीकरण परियोजना को राष्ट्र को समर्पित करेंगे।इसके बाद भिलाई से ही रिमोट के जरिए रायपुर से जगदलपुर के लिए घरेलू विमान सेवा उड़ान का भी शुभारंभ करेंगे। इसके बाद वह भिलाई में एक जनसभा को संबोधित कर दिल्ली वापस लौट जाएंगे।