रेपिनोः सेमीफाइनल में प्रवेश करने के लिए इंग्लैंड आैर स्वीडन के बीच जंग जारी है। पहले हाॅफ के समाप्त होने तक इंग्लैंड ने 1-0 की बढ़त बनाई हुई है। वहीं स्वीडन की टीम अभी भी गोल करने करने की कोशिश में जुटी है। मैच के 30वें मिनट में हैरी मैग्यूरे ने इंग्लैंड के लिए पहला गोल दागा।

 गैरेथ साउथगेट की इंग्लिश टीम की जब रूस के लिए घोषणा की गयी थी तब टीम में मिडफील्डरों और फारवर्ड खिलाड़ियों को लेकर काफी सवाल थे। लेकिन रूस में राइट बैक ट्रिपियर और सेंटर फारवर्ड हैरी केन जैसे खिलाड़ियों ने अपने प्रदर्शन से सभी को शांत कर दिया है और टीम को क्वार्टरफाइनल तक पहुंचने में भी मदद की।  

मौजूदा टूर्नामेंट में ट्रिपियर गोल के मौके बनाने वाले खिलाड़ियों में सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में है। ओप्टा के आंकड़ों के अनुसार अभी तक इस मामले में तीन खिलाड़ियों में ब्राजील के नेमार, बेल्जियम के केविन डी ब्रुएन और ट्रिपियर सबसे आगे हैं। ट्रिपियर ने भी स्वीडन से पूर्व मैच को लेकर कहा, मेरे लिए इंग्लैंड का संयोजन उचित है। मैं जितना आगे जाकर गोल के मौके बना सकूं टीम के लिये उतना अहम होगा। मैं इससे बहुत खुश हूं।

इंग्लैंड को अहम क्वार्टरफाइनल मुकाबले में ट्रिपियर से काफी उम्मीद हैं जो मैनचेस्टर सिटी की यूथ टीम के लिए शुरूआत से ही फूल बैक की भूमिका निभाते रहे हैं। कोच साउथगेट के मार्गदर्शन में हालांकि तीन मध्य डिफेंडरों को उतारा गया है जिसमें काइल वाकर किनारे से कवर देते हैं, ट्रिपियर राइट विंगर की तरह पूरा समय बिताते हैं।  
 
ट्रिपियर की ताकत मैदान पर बिना थके देर तक भागने और तेकाी से पास देने के अलावा बॉल को स्ट्राइक करना है जो इंग्लैंड के लिये टूर्नामेंट में अहम साबित हुई है। कोलंबिया के खिलाफ पेनल्टी शूटआउट में भी टीम को 4-3 से मिली जीत में उनकी अहम भूमिका रही थी। खास बात यह है कि ट्रिपियर ने अपनी इस तकनीक को इंग्लैंड के पूर्व कप्तान डेविड बेकहम से देखकर सीखा है जिनसे वह कभी नहीं मिले हैं।