मुख्यमंत्री शिवराज द्वारा दिग्विजय के कार्यकाल में बजट को लेकर की गई टिप्पणी को लेकर अब बवाल खड़ा हो गया है। कांग्रेस ने शिवराज सरकार पर हमले बोलना शुरु कर दिया है। नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने शिवराज सिंह पर फिजूल खर्ची का आरोप लगाया है।

भाजपा कार्यालय में चुनाव प्रचार के लिए उन कार्यकर्ताओं को बुलाया गया जो सोशल मीडिया पर एक्टिव थे। इन लोगों को कार्यकर्ता कहने की बजाए 'साइबर योद्धा' कहा गया ताकि पूरा जोश भरा जा सके। इसी दौरान अपनी ही सरकार का गुणगान करते हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि दिग्विजय सिंह सरकार का कुल जितना बजट होता था, उतना तो हम लोकार्पण पर खर्च कर देते हैं।  उन्होंने ट्वीटर के माध्यम से शिवराज सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने एक के बाद एक ट्वीट कर शिवराज सरकार पर हमला बोला है।

उन्होंने पहले ट्वीट मे लिखा है कि यह सही कहा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कि दिग्विजय सरकार का जितना बजट था उतना भाजपा सरकार लोकार्पण पर खर्च कर देती है। तभी प्रदेश पर आज  पौने दो लाख करोड़ का कर्ज है और प्रदेश के हर नागरिक पर 22 हजार का कर्ज है ।

यह सही कहा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कि दिग्विजय सरकार का जितना बजट था उतना भाजपा सरकार लोकार्पण पर खर्च कर देती है । तभी प्रदेश पर आज पौने दो लाख करोड़ का कर्ज है और प्रदेश के हर नागरिक पर 22 हजार का कर्ज है ।

— Office Of Ajay Singh (@ASinghINC) July 9, 2018

उन्होंने लिखा है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जब देवास में एक कार्यक्रम में फेंक रहे थे कि हमने एक साल में किसानों के खातों में 35 हजार करोड़ डाले उसी दिन वहां से कुछ सौ किलोमीटर की दूरी पर जावरा में  एक किसान ओंकारनाथ गांधी ने कर्ज के कारण आत्महत्या कर ली।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जब देवास में एक कार्यक्रम में फेंक रहे थे कि हमने एक साल में किसानों के खातों में 35 हजार करोड़ डाले उसी दिन वहां से कुछ सौ किलोमीटर की दूरी पर जावरा में एक किसान ओंकारनाथ गांधी ने कर्ज के कारण आत्महत्या कर ली ।

— Office Of Ajay Singh (@ASinghINC) July 9, 2018

 

यह भी लिखा कि पूरे प्रदेश में 20 हजार किसान आत्महत्या कर चुके हैं। हर दिन एक किसान आत्महत्या कर रहा है। मुख्यमंत्री बतायें कि ये 35 हजार करोड़ रुपये किस प्रदेश के किसानो के खाते में डाले है और किसानों के नाम पर यह राशि किसके खाते में जा रही है?

पूरे प्रदेश में 20 हजार किसान आत्महत्या कर चुके हैं। हर दिन एक किसान आत्महत्या कर रहा है। मुख्यमंत्री बतायें कि ये 35 हजार करोड़ रुपये किस प्रदेश के किसानो के खाते में डाले है और किसानों के नाम पर यह राशि किसके खाते में जा रही है ?

— Office Of Ajay Singh (@ASinghINC) July 9, 2018