थाईलैंड की गुफा में फंसे सभी 13 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया. इसके साथ ही गुफा के अंदर फंसे 12 नन्हें फुटबॉलरों एवं उनके कोच को बचाने की मुहिम अब खत्म हो गई है. थाईलैंड में नौसेना के एक सूत्र और प्रांतीय अधिकारी ने एएफपी को यह जानकारी दी. नौसेना के एक सूत्र ने बताया, ‘‘सभी लोगों को बाहर निकाल लिया गया.’’

चार बच्चों को सोमवार को बाहर निकाल लिया गया था

बता दें कि उत्तरी थाईलैंड की एक बाढ़ग्रस्त गुफा में से चार और बच्चों को सोमवार को बाहर निकाल लिया गया था. गुफा में 12 बच्चे और उनके फुटबॉल कोच बीते दो सप्ताह से भी अधिक समय से फंसे हुए थे. जिनमें से अब तक 10 बच्चों को बचाया जा चुका था. अधिकारियों ने इस बात की जानकारी दी थी. थाम लौंग गुफा से रविवार को पहले सफल अभियान के दौरान चार बच्चों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया था जबकि बचाव अभियान के दूसरे दिन सोमवार को चार और बच्चों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया. अब कोच इकापोल चांटावोंग और चार बच्चे गुफा में बचे हैं. बचाए गए बच्चों की पहचान नहीं बताई गई है.

All 12 boys and the coach rescued from Thailand cave: The Straits Times #ThailandCaveRescue pic.twitter.com/d4b4VJ7LLK

— ANI (@ANI) July 10, 2018

 

I know this rescue ops is going to be intense as hell but I dint expect it to be this scary 😥. These guys deserve Medal of Honour 🏅#ThaiCaveRescue pic.twitter.com/KHrh7Ge6d8

— RKS (@kchelvi575) July 8, 2018

एक रिपोर्ट के मुताबिक, थाई नौसेना सील ने बच्चों को बचाने की पुष्टि की है. पब्लिक टेलीविजन ने चियांग रै शहर में एक अस्पताल के नजदीक हेलीकॉप्टरों के उतरने का लाइव वीडियो प्रसारित किया है. माना जा रहा है कि हेलीकॉप्टरों के जरिए बचाए गए बच्चे अस्पताल लाए गए.

 

https://twitter.com/OmarAbdelhady96/status/1016343590027579392

जिन गोताखोरों ने बच्चों के पहले समूह को बचाने का काम किया था, वही दूसरे अभियान में भी शामिल थे. अधिकारियों ने कहा कि हालात रविवार की तरह बेहतर बने हुए हैं और बारिश ने गुफा के जलस्तर को प्रभावित नहीं किया है.

गुफा में कैसे पहुंचे बच्चे

बता दें कि, यह सभी बच्चे एक मैच पूरा होने के बाद गुफा में घूमने गए थे. ये सभी अंडर-16 फुटबॉल टीम के खिलाड़ी हैं, जिनकी उम्र 11 से 16 साल के बीच है. 12 बच्चों के साथ इस गुफा में उनके कोच भी मौजूद हैं. यह गुफा 10 किलोमीटर लंबी है बारिश के मौसम में ये गुफा जुलाई से नवंबर के बीच बंद कर दी जाती है. बताया जा रहा है कि जिस वक्त बच्चे और उनके कोच गुफा में गए थे, उस वक्त वहां पर बारिश होने लगी, जिसके कारण वह वहां पर फंस गए.