नयी दिल्ली : नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने आज कहा कि भारत का दुनिया की छठी बड़ी अर्थव्यवस्था बनना उम्मीद के अनुरूप है लेकिन अ भी लंबा रास्ता तय करना बाकी है क्योंकि देश की प्रति व्यक्ति आय अब भी काफी कम है।
 

कुमार ने कहा कि देश को वैश्विक मंच पर सार्थक रूप से दखल देने की क्षमता विकसित करनी होगी क्योंकि यह जल्दी ही ब्रिटेन को पीछे छोड़ते हुए पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होगी।
 

उन्होंने पीटीआई- भाषा से कहा , ‘‘ यह उम्मीद के अनुरूप है।  यह उच्च वृद्धि दर का परिणाम है। जल्दी ही हम ब्रिटेन को पीछे छोड़ देंगे ... । ’’
 

नीति आयोग के उपाध्यक्ष ने कहा , ‘‘ हम जल्दी ही अमेरिका , चीन , जापान और जर्मनी के बाद पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होंगे। लेकिन हमारी प्रति व्यक्ति आय फ्रांस के मुकाबले 20 गुना कम है। इसीलिए हम यहां नहीं रूक सकते। ’’
 

उन्होंने आगे कहा कि चूंकि भारत अब छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है , इसीलिए भारत से वैश्विक मंच पर काफी उम्मीदे होंगी।
 

कुमार ने कहा , ‘‘ इसीलिए हमें जरूरी तैयारी करनी होगी और वह क्षमता सृजित करनी होगी जहां हम अपने राष्ट्रीय हितों के अनुसार सार्थक रूप से वैश्विक मंच पर हस्तक्षेप कर सकते हैं। ’’
 

विश्वबैंक के आंकड़े के विश्लेषण के अनुसार भारत 2017 में 2590 अरब डालर के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के साथ छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया और फ्रांस को पीछे छोड़ दिया और जल्द ही यह ब्रिटेन से भी आगे निकल जायेगी। ब्रिटेन की जीडीपी इस समय 2,620 अरब डालर है।