गाजियाबाद: गाजियाबाद के इंदिरापुरम थाना क्षेत्र के वसुंधरा में रहने वाली एक महिला पत्रकार ने पासपोर्ट का वेरिफिकेशन करने पहुंचे दारोगा पर अभद्रता का आरोप लगाया है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, महिला का आरोप है कि दारोगा ने महिला से गले लगने को कहा. दारोगा की इस हरकत का महिला ने विरोध किया और पासपोर्ट विभाग, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, पुलिस व अन्य विभागों को ट्वीट कर आरोपी दारोगा की शिकायत की. ट्वीट के बाद पुलिस विभाग हरकत में आया और एसएसपी ने देर शाम आरोपित सब इंस्पेक्टर देवेंद्र कुमार को निलंबित कर जांच बिठा दी.   

जानकारी के मुताबिक, आरोपी दारोगा देवेंद्र कुमार इंदिरापुरम की वसुंधरा पुलिस चौकी पर तैनात था और गुरुवार (12 जुलाई) की दोपहर वो वसुंधरा सेक्टर-3 में रहने वाली महिला पत्रकार का पासपोर्ट वेरिफिकेशन करने उनके घर पहुंचा था.

पीड़िता के अनुसार, दारोगा को सोसायटी के सुरक्षा गार्ड ने महिला के फ्लैट तक ले जाकर छोड़ा था. महिला अपनी घरेलू सहायिका के साथ थीं. इस दौरान दरोगा ने पासपोर्ट वेरिफिकेशन संबंधित कई सवाल पूछे और नोट भी किया. महिला पत्रकार ने आरोप लगाया कि इस दौरान दारोगा ने कहा, 'वेरिफिकेशन कर दिया है, अब आप इसके बदले क्या देंगी.' महिला का आरोप है कि दारोगा ने उससे कहा, 'इस काम के बदले गले मिल लो'. पीड़िता में विरोध करने पर वो वहां से चला गया. इसके बाद महिला ने ट्वीट कर इसकी शिकायत की.

ट्वीट के बाद हरकत में आई यूपी पुलिस ने दारोगा के खिलाफ तुरंत एक्शन लिया. एसएसपी वैभव कृष्ण ने दारोगा को सस्पेंड करने का आदेश दिया. एसएसपी ने बताया कि सीओ रवि कुमार को मामले की जांच सौंपी गई है. शुरुआती आरोपों के आधार पर दारोगा को सस्पेंड कर दिया गया है. वहीं, महिला पत्रकार को भी थाने आकर मामले की शिकायत दर्ज कराने को कहा गया है.

वहीं निलंबित दारोगा देवेंद्र कुमार का कहना है कि महिला पत्रकार द्वारा लगाए गए सारे आरोप गलत हैं. उन्होंने कोई गलत बात महिला मीडियाकर्मी से नहीं की. महिला ने पहले ही बता दिया था कि वे पत्रकार हैं, ऐसे में भूलकर भी ऐसी गलती नहीं कर सकता. दारोगा ने आरोप है कि  महिला मीडियाकर्मी को अपना मूल पता तक नहीं पता था. महिला ने अपने पिता को फोन कर सभी जानकारियां हासिल कर, उन्हें दीं. जब उन्होंने ये सवाल किया कि ये जानकारियां आपको क्यों नहीं है तो वो गुस्सा हो गईं.