नई दिल्ली : स्वतंत्रता दिवस से पहले देश में सुरक्षा के चाक चौबंद इंतजाम किए जा रहे हैं. ऐसे में सुरक्षा एजेंसियां की चिंता बढ़ाने वाली खबर आ रही है. खुफिया एजेंसियों को मिले इनपुट के आधार पर जानकारी सामने आ रही है कि आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर का भतीजा और उसका भाई अब्दुल रउफ भारत में हैं. ये दोनों देश में बड़ी आतंकी वारदात को अंजाम देने की फिराक में हैं. इतना ही नहीं ये दोनों श्रीनगर और राजधानी दिल्ली में टेरर मॉड्यूल भी बना रहे हैं.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक जो इनपुट मिले हैं, उसके मुताबिक मसूद अजहर के बड़े भाई इब्राहिम का बेटा मोहम्मद उमर मई के आखिरी सप्ताह में जम्मू एंड कश्मीर में दाखिल हुआ था. इसी महीने उसके भाई रऊफ का बॉडीगार्ड मोहम्मद इस्माइल भी घाटी में अवैध घुसपैठ कर आ गया था. कंधार कांड, जिसमें मसूद अजहर को छुड़ाया गया था, उसमें रउफ मुख्य आरोपी है. सुरक्षा एजेंसियों के लिए चिंता की बात ये है कि इस्माइल एक बार कश्मीर से दिल्ली भी आ चुका है. इसके थोड़े दिनों बाद वह वापस घाटी में लौट गया. आशंका जताई जा रही है कि वह यहां टेरर मॉड्यूल को जमाने के लिए आया था.

एजेंसियों के इनपुट के अनुसार, मोहम्मद इस्माइल मई 2018 में घाटी में दाखिल हुआ. इसके बाद वह दिल्ली आया. उसने आतंकी ऑपरेशन के लिए मॉड्यूल भी बनाया. उसके इस वक्त जम्मू एंड कश्मीर में होने के पक्के सबूत हैं. जैश ए मोहम्मद से जुड़े सूत्रों के अनुसार, इस समय मोहम्मद इस्माइल पुलवामा और श्रीनगर के बीच कहीं पर है. जहां तक बात अजहर के भतीजे मोहम्मद उमर की है तो वह इस समय घाटी में ही है. सूत्रों के अनुसार, इस समय वह घाटी के युवाओं को आतंकी गतिविधियों के लिए भर्ती कर रहा है. इतना ही नहीं वह उन्हें इसकी बाकायदा ट्रेनिंग भी दे रहा है. बताया जा रहा है कि उमर कश्मीर में छह महीने रह कर यहां के युवाओं को आतंकवादी बनने की पूरी ट्रेनिंग देगा.

सुरक्षा एजेंसियों के अनुसार, पिछले महीने उमर के साथ एक एनकाउंटर हो भी चुका है. हालांकि इसमें वह बचकर निकल गया. इसके बाद वह  श्रीनगर के पास पांठा चौक के पास कहीं छिप गया. पिछले महीने उमर के ग्रुप ने घाटी में पुलिसवालों से हथियार छीनने की एक घटना को अंजाम दिया था. खुफिया एजेंसियों को पता चला है कि मोहम्मद इस्माइल फिलहाल उमर के साथ कश्मीर में बड़ी वारदात के लिए तैयारी कर रहा है. सुरक्षा एजेंसियों के लिए ये बात इसलिए चिंता बढ़ाने वाली है, क्योंकि ये दोनों जेश ए मोहम्मद के सबसे खतरनाक आतंकी हैं. इस समय घाटी में अमरनाथ यात्रा चल रही है. इसके अलावा स्वतंत्रता दिवस करीब है. ऐसे में इनका घाटी में होना खतरे की घंटी हो सकती है.