मूकबधिर छात्राओं ने छह महीने पहले उनके यौन शोषण की शिकायत सामाजिक न्याय विभाग से की थी। उस पर ध्यान ही नहीं दिया गया। अब जांच के लिए एसआईटी बनाई गई है। बाबरिया साब जहां भी जा रहे हैं वहां उम्मीदवारों के समर्थक खूब गदर कर रहे हैं। इस दफे देवास में गदर हो गया। भोपाल के शिशुगृहों में भोत सारे लोचे हैं। कहीं नाबालिग बच्चियां रखी गईं हैं तो कहीं पुरुष केयर टेकर हैं। खबर नायाब रही। अब ड्राइविंग के समय लाइसेंस रखना जरूरी नहीं होगा। खबर ध्यान खींचती है। न्यू मार्केट के सौंदर्यीकरण को लेके व्यापारियों और स्मार्ट सिटी कंपनी के बीच नाइत्तफाकियां बनी हुइ हैं। यहीं शहर के मौसम का आईटम भी फिक्स हो गया। चुनाव आयोग चुनावी तैयारियों का जायजा ले रहा है। इसके अलावा यातायात नियम तोड़ने वालों को इंदौर और भोपाल में 65 हजार ई नोटिस भेजे जाने वाली खबर उम्दा आई। भोपाल की प्लानिंग अव्यवस्थित होने वाली खबर भी यहां नुमायां हो रही है। लहारपुर डैम क ा पानी पीने योग्य बनाने के लिए 78 करोड़ खर्च हुए।