एसपी ने जिले में रेत माफियाओं पर कसा शिकंजा
प्रदेश टुडे संवाददाता, शिवपुरी
जिले की पुलिस ने रेत माफियाओं के खिलाफ बीती रात एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है। एसपी राजेश हिंगणकर के निर्देशन में पुलिस की एक विशेष टीम ने नरवर और करैरा क्षेत्र की दो बड़ी रेत खदानों कटेंगरा और मौजीपुरा पर छापामार कार्रवाई कर बड़ी मात्रा में वहां अवैध उत्खनन होते हुए पाया। इस कार्रवाई से रेत माफियाओं में हड़कम्प मच गया। पुलिस ने मौके से 12 रेत से भरे डंपर, दो पॉकलेन मशीन, तीन बोलेरो वाहन, रेत छानने वाली बड़ी छलनी, पानी की मोटरें, एक 315 बोर की राइफल, तीन चले हुए राउंड, 15 फर्जी रॉयल्टी के कट्टे, तीन ट्रैक्टर-ट्रॉली को जब्त किया है, जब्त किए गए सामान की कीमत करीब चार करोड़ 64 लाख रुपए आंकी गई है। पुलिस ने मौके से नौ आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जबकि पांच आरोपी भागने में सफल रहे।

 
एसपी राजेश हिंगणकर ने मुखबिर की सूचना पर करैरा थाना प्रभारी प्रदीप वॉल्टर और पुलिस लाइन में पदस्थ एसआई मुकेश दुबोलिया को अपनी-अपनी टीमें गठित करने का निर्देश देकर उन्हें ग्राम कटेंगरा और मौजीपुरा खदान पर कार्रवाई करने का आदेश दिया। जिस पर करैरा टीआई श्री वॉल्टर ने नरवर थाना प्रभारी बादाम सिंह, प्रधान आरक्षक सतीश जयंत, आरक्षक दीपक मौर्य, मोहन सिंह और एसएएफ बल को बुलाकर कटेंगरा में स्थित बरूआ नाला नदी पर चल रहे रेत के अवैध उत्खनन पर कार्रवाई की, जहां से पुलिस ने एक पॉकलेन मशीन, सात डंपर, चार पानी के पंप, तीन बोलेरो, एक लोहे का बड़ा रेत छानने वाला छलना, 315 बोर की राइफल, तीन राउंड चले हुए, 15 फर्जी रॉयल्टी के कट्टे और वहां मौजूद लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि दूसरी कार्रवाई मुकेश दुबोलिया के नेतृत्व में मौजीपुर में स्थित खदान पर कार्रवाई की गई। जहां मौजीपुर के जंगल में कुछ लोग रेत का अवैध उत्खनन कर रहे थे, जिन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर मौके से एक पॉकलेन मशीन, पांच डंपर, तीन ट्रैक्टर-ट्रॉली व पांच पानी के पंप जब्त किए हैं। हालांकि पुलिस द्वारा दोनों स्थानों पर की गई कार्रवाई के दौरान पांच आरोपी भागने में सफल हो गए। आधी रात को की गई इस कार्रवाई से रेत माफियाओं में हड़कम्प मच गया है।

इन आरोपियों को किया गिरफ्तार
कार्रवाई के दौरान पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए लोगों में राजेंद्र गुर्जर, बृजराज तोमर, सुरेश रावत, धर्मेंद्र भदौरिया, संजीव राजावत, कोमल बघेल, नरेश पाल, लक्ष्मण बघेल व मुरारी कुशवाहा शामिल हैं, जबकि देवेश तोमर, सुनील कुशवाह, नीतू जादौन, रामसेवक रावत एवं बल्लू रावत मौका पाकर भाग निकलने में सफल रहे हैं, जिनकी पुलिस द्वारा तलाश की जा रही है।

अंतर्राज्यीय स्तर पर की जाती है रेत सप्लाई
जिले की नरवर और करैरा तहसील में कटेंगरा और मौजीपुरा ने मध्यप्रदेश सहित उत्तरप्रदेश में अपनी पहचान बना रखी है, जहां से अवैध रेत की सप्लाई शिवपुरी, ग्वालियर, गुना, झांसी, जालौन, बबीना सहित मप्र और उप्र के कई शहरों में की जाती है, इन खदानों का संचालन राजनैतिक क्षेत्र से जुड़े राजनेताओं के संरक्षण में होता है, जिस कारण पुलिस भी वहां हाथ डालने से घबराती है, लेकिन एसपी राजेश हिंगणकर ने किसी भी दबाव की परवाह किए बिना रेत माफियाओं के खिलाफ बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है।