धार की शिक्षिका शिरीन कुरैशी ने श्रीलंका में हजारों को हिंदी सिखाई। हिंदी दिवस पे प्रासंगिक खबर। माल्या मामले दोनों पार्टियों में चल रही महाभारत वाली खबर भेतरीन आई। लो साब सेंक्शन रकम को भोपाल सहित 7 शहरों ने खर्च ही नहीं किया। खबर ध्यान खींचती है। एमपी में सेल्फी विथ बूथ वाला आईटम उम्दा रहा वैभव श्रीधर का। डेंगू भी निजी अस्पतालों की कमाई का जरिया बन चुका है। वहां एलाइजा के बजाए रैपिड किट से डेंगू पॉजिटिव बताया जा रहा है। शशिकांत तिवारी की उम्दा खबर। अशोाका गार्डन में विवेकानंद थीम पे बन रहे पार्क का एरियल व्यू भेतरीन आया। बड़ी झील में 30 सितंबर तक म्यूजिकल फांउटेन बन जाएगा। निगम और स्मार्ट सिटी कंपनी ने स्मार्ट रोड की डिजाइन ही बदल दी। साथ ही बदहाल लोक परिवहन वाली खबरें नायाब रहीं। सौरभ खंडेलवाल बता रहे हैं कि इस बार सोशल मीडिया से चुनावी खर्च की मॉनीटरिंग होगी। गुजरात सरकार ने एक बार फिर एमपी को शेर देने में बहाना बनाया है।